वाशिंगटन डीसी में क्वाड लीडर्स समिट में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने हिस्सा लिया. भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने पहली फिजिकल क्वाड समिट की ऐतिहासिक पहल के लिए राष्ट्रपति जो बाइडन का बहुत बहुत धन्यवाद किया.

शुक्रवार को व्हाइट हाउस में अपने पहले व्यक्तिगत क्वाड शिखर सम्मेलन के बाद जारी एक संयुक्त बयान में, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जापानी प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि वे अफगानिस्तान के प्रति अपनी कूटनीतिक, आर्थिक और मानवाधिकार नीतियों का बारीकी से समन्वय करेंगे और दक्षिण एशिया में अपने आतंकवाद विरोधी और मानवीय सहयोग को और गहरा करेंगे. 

पीएम नरेंद्र मोदी की अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ बैठक में क्या-क्या बात हुई?

संयुक्त बयान में कहा गया, "हम टेररिस्ट प्रॉक्सी के इस्तेमाल की निंदा करते हैं और आतंकवादी समूहों को किसी भी सैन्य या वित्तीय सहायता से इनकार करने के महत्व पर जोर देते हैं, जिसका इस्तेमाल सीमा पार हमलों सहित आतंकवादी हमलों के लिए किया जा सकता है." पाकिस्तान का नाम लिए बगैर क्वाड समिट में आतंकियों को पनाह देने और टेररिस्ट प्रॉक्सी के इस्तेमाल के लिए उसकी निंदा की गई. 

क्वाड नेताओं ने पुष्टि की कि अफगान क्षेत्र का इस्तेमाल किसी भी देश को धमकाने या हमला करने या आतंकवादियों को शरण देने या प्रशिक्षित करने, या आतंकवादी कृत्यों की योजना बनाने या वित्तपोषण के लिए नहीं किया जाना चाहिए. वे अफगानिस्तान में आतंकवाद का मुकाबला करने के महत्व को भी दोहराते हैं.

पीएम मोदी और कमला हैरिस की पहली मुलाकात, भारत आने का न्योता दिया, बैठक की प्रमुख बातें

क्या बोले भारतीय पीएम 

क्वाड लीडर्स समिट में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "हम 2004 की सुनामी के बाद इंडो-पैसिफिक क्षेत्र की मदद के लिए एक साथ आए थे. आज जब विश्व कोविड महामारी का सामना कर रहा है तो हम एक बार फिर क्वाड के रूप में एक साथ मिलकर मानवता के हित में जुटे हैं."

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा क्वाड वैक्सीन इनिशिएटिव इंडो-पैसिफिक देशों की बड़ी मदद करेगा. पीएम ने आगे कहा, "अपने सांझा लोकतांत्रिक मूल्यों के आधार पर क्वाड ने पॉजिटिव सोच, पॉजिटिव अप्रोच के साथ आगे बढ़ने का निर्णय लिया है."

मोदी ने कहा, "सप्लाई चेन हो या वैश्विक सुरक्षा, क्लाइमेट एक्शन हो या कोविड रिस्पांस या टेक्नोलॉजी में सहयोग इन सभी विषयों पर मुझे अपने साथियों के साथ चर्चा करने में खुशी होगी."

पीएम मोदी ने क्वाड को फोर्स फॉर ग्लोबल गुड बताते हुए कहा, "विश्व कोविड महामारी का सामना कर रहा है तो हम एक बार फिर क्वाड के रूप में एक साथ मिलकर मानवता के हित में जुटे हैं. हमारा क्वाड वैक्सीन इनिशिएटिव इंडो-पैसिफिक देशों की बड़ी मदद करेगा." 

क्या बोले बाइडन, मॉरिसन और सुगा  

क्वाड लीडर्स समिट में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा, "वैश्विक आपूर्ति को बढ़ावा देने के लिए भारत में वैक्सीन की अतिरिक्त 1 बिलियन डोज़ के उत्पादन की हमारी पहल ट्रैक पर है." उन्होंने आगे कहा, "जब हम 6 महीने पहले मिले थे, तो हमने स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक के हमारे एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी. आज मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि हम इस दिशा में उत्कृष्ट प्रगति कर रहे हैं."

PM Modi US Visit: क्वाड समिट क्या है और कौन से देश है शामिल? जानें मकसद और अहमियत

जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा ने कहा, "क्वाड 4 देशों द्वारा एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहल है जो मौलिक अधिकारों में विश्वास करते हैं और जिनका विचार है कि इंडो-पैसिफिक को स्वतंत्र और खुला होना चाहिए." 

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन बोले, "हम एक स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र में विश्वास करते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि इससे एक मज़बूत और समृद्ध क्षेत्र का निर्माण होगा."  

PM Modi's US visit: पहले दिन पीएम मोदी ने किस-किस से मुलाकात की और क्या बातें हुईं