कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मध्य प्रदेश में पार्टी के प्रमुख व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) की मंत्री इमरती देवी के खिलाफ ‘आइटम’ टिप्पणी पर मंगलवार को नाराजगी जाहिर करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया. हालांकि कमलनाथ ने राहुल गांधी के बयान के बावजूद माफ़ी मांगने से मन कर दिया.  

तीन दिवसीय दौरे पर केरल आए गांधी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘महिला के खिलाफ कोई भी इस तरह अभद्र व्यवहार नहीं कर सकता. कमलनाथ जी मेरी पार्टी के हैं. लेकिन मैं निजी तौर पर इस तरह की भाषा को पंसद नहीं करता जिस तरह से हम महिलाओं के साथ व्यवहार करते हैं, उसे सुधारने की जरूरत है. हमारी महिलाएं हमारी शान हैं. मैं ऐसी भाषा की सराहना नहीं करता हूं."

कमलनाथ ने माफ़ी मांगने से इनकार किया 

ANI के मुताबिक, राहुल गांधी के कमलनाथ के इमरती देवी को लेकर दिए बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताने पर कमलनाथ ने कहा, "वो राहुल जी की राय है. मैं क्यों माफी मांगूगा, मैंने कल कह दिया कि मेरा लक्ष्य किसी को अपमानित करने का नहीं था और अगर कोई अपमानित अहसास करता है तो मुझे खेद है." 

क्या है मामला? 

मालूम हो कि इमरती देवी को कमलनाथ द्वारा रविवार को एक चुनावी रैली में कथित तौर पर ‘आइटम’ कहे जाने के विरोध में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं अन्य पार्टी नेता सोमवार को राज्य में विभिन्न जगहों पर धरने पर बैठकर दो घंटे का मौन व्रत किया और इस टिप्पणी के लिए कमलनाथ की निंदा की.

मुख्यमंत्री चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कमलनाथ को पार्टी के सभी पदों से हटाने की मांग भी की है. इसके अलावा, चुनाव आयोग ने डबरा विधानसभा सीट से भाजपा की महिला उम्मीदवार इमरती देवी के खिलाफ कमलनाथ द्वारा की गयी इस टिप्पणी पर राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. वहीं, राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने भी यह मामला चुनाव आयोग को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेजा है.

इमरती देवी सहित 21 अन्य विधायकों ने मार्च में कांग्रेस से और विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था तथा भाजपा में शामिल हो गए थे. इसके बाद कमलनाथ सरकार गिर गयी थी. इनमें से अधिकांश ज्योतिरादित्य सिंधिया का करीबी माने जाते हैं.