बिहार में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है .अभी तक 22 हजार तक आंकड़ा पहुच चुका है. बढ़ते मरीजों को देखते हुए सरकारी संसाधन कम पड़ते जा रहे हैं. कोविड अस्पतालों में भी मरीजों के लिए बेड कम पड़ते जा रहे हैं. ऐसे में पूर्व मध्य रेलवे हाई अलर्ट मोड पर है.

राज्य सरकार के सहयोग के लिए रेलवे ने भी अपनी तैयारी की है और बिहार के कुल 15 रेलवे स्टेशनों पर 20-20 की संख्या में कुल 300 आइसोलेशन कोच की व्यवस्था की गई है. जहां पर विपरीत परिस्थिति आने पर कोरोना के मरीजों का इलाज किया जाएगा.

पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने यह बताया कि कोरोना के गंभीरता को देखते हुए भारत सरकार और राज्य सरकार के सहायता के लिए भारतीय रेल ने पर्याप्त संख्या में आइसोलेशन कोच तैयार कर रखा है, जिन्हें राज्य सरकार के मांग के अनुरूप स्टेशनों पर खड़ा किया जा रहा है.

बिहार के पटना, सोनपुर, नरकटियागंज, जयनगर, रक्सौल, बरौनी, मुजफ़्फ़रपुर, सहरसा, सिवान, समस्तीपुर, दरभंगा, सीतामढ़ी, छपरा, कटिहार और भागलपुर स्टेशनों पर आइसोलेशन कोच लगाने की तैयारी की गई है.

प्रत्येक स्टेशनों पर खड़े इन कोविड केयर कोच में सामान्य श्रेणी के 20 कोच हैं तथा प्रत्येक कोच में 16 मरीज रखे जा सकते हैं. प्रत्येक 5 कोच के बाद 1 वातानुकूलित कोच होगा एवं उसके आगे 5 कोच होंगे. वातानुकूलित कोच चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कर्मियों के उपयोग के लिए होंगे. कोविड केयर कोच में ऑक्सीजन सिलेन्डर की व्यवस्था रेल मंत्रालय द्वारा की गई है. साथ ही इसमें पर्याप्त संख्या में पंखा, पानी, शौचालय की व्यवस्था की गई है.

रेल प्रशासन एवं राज्य सरकार मिलकर कोविड केयर कोच के लिए सभी जरूरतों को पूरा करेंगे. इसी तरह मेडिकल स्टाफ को पीपीई किट तथा अन्य चिकित्सा सामग्री राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाना है, जबकि कोच के रख-रखाव के लिए तैनात स्टाफ को यह सुविधा रेलवे प्रदान करेगी.