तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने राजनीतिक दल की स्थापना से मंगलवार को पीछे हटने का फैसला लिया है, जिसका उनके बड़े भाई सत्यनाराणय राव समर्थन किया है. राव (77) ने कहा कि यह उनके भाई की इच्छा है और कोई उन्हें फैसला बदलने को मजबूर नहीं कर सकता.

राव ने रजनीकांत के राजनीतिक पदार्पण से जुड़ी लोगों की ''बहुत सारी उम्मीदों'' के बारे में बताते हुए 'पीटीआई-भाषा' से कहा, ''हम भी यही चाहते थे (कि वह पार्टी की स्थापना करेंगे). उन्होंने (रजनीकांत ने) स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया है. लिहाजा हम उन्हें मजबूर नहीं कर सकते. यह (पार्टी की स्थापना नहीं करना) उनकी इच्छा है. वह जो भी फैसला लेंगे, बिल्कुल सही होगा.''

राव ने कहा कि उन्होंने सोमवार को रजनीकांत से बात कर उनका हालचाल जाना है. इस महीने की शुरुआत में रजनीकांत अपने भाई के पास बेंगलुरु आए थे, जहां उनकी परवरिश हुई है. 70 वर्षीय अभिनेता ने अपने भाई का आशीर्वाद लिया था. भाई ने उनके अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु की कामना की थी.

राव ने शहर में बीते रजनीकांत के बचपन को याद किया था. यहीं पर उनका जन्म हुआ था और वह 22 साल की उम्र तक यहीं रहे तथा बाद में चेन्नई चले गए.

राव ने कहा, ''उनपर (रजनीकांत) गुरुकृपा है. ''

रजनीकांत ने मंगलवार को घोषणा की कि उन्होंने स्वास्थ्य कारणों के चलते राजनीति में पदार्पण करने और पार्टी बनाने का इरादा बदल दिया है.

रजनीकांत को रक्तचाप संबंधी परेशानी का इलाज कराने के बाद रविवार को हैदराबाद के एक अस्पताल से छुट्टी दी गई थी.