भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल हेड कोच में से एक रवि शास्त्री का कार्यकाल टी20 वर्ल्ड कप के बाद समाप्त होने वाला है. रवि शास्त्री ने स्वीकार किया कि थोड़ा "दुख" होगा, लेकिन उन्हें इसमें कोई संदेह नहीं है कि वह सही समय पर बाहर जा रहे हैं. शास्त्री ने कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान उम्मीद से ज्यादा सफलता हासिल की. 

टीम इंडिया के मुख्य कोच के रूप में शास्त्री का पहला कार्यकाल 2017 से लेकर 2019 तक चला था. इसके बाद उनकी नियुक्ति बढ़ा दी गई. टी20 वर्ल्ड कप 17 अक्टूबर से UAE में शुरू हो रहा है. 

59 साल के शास्त्री इंग्लैंड दौरे पर कोविड​​-19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद से अभी तक क्वारेंटीन में ही हैं.  'द गार्जियन' से बात करते हुए शास्त्री ने कहा कि टी20 वर्ल्ड कप जीतना खास होगा लेकिन उनके समय में टीम ने पहले ही खास चीजें हासिल की हैं. 

विराट के कप्तानी छोड़ने के बाद रोहित शर्मा को नहीं बनाना चाहिए कप्तान, ये हैं 3 वजह

शास्त्री ने कहा, "मैं ऐसा इसलिए मानता हूं क्योंकि मैंने वह सब हासिल कर लिया है जो मैं चाहता था. टेस्ट क्रिकेट में पांच साल नंबर 1 पर रहना, ऑस्ट्रेलिया में दो बार टेस्ट सीरीज जीतना और इंग्लैंड में जीत हासिल करना शामिल है."

शास्त्री ने कहा कि उनके लिए ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को उन्हीं के घर में हराना सबसे बड़ी उपलब्धि है. बता दें कि इंग्लैंड दौरे से हाल में लौटी टीम इंडिया सीरीज में 2-1 से आगे थी, लेकिन पांचवां व आखिरी टेस्ट कोविड के चलते टल गया. इससे पहले शास्त्री के कार्यकाल में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में दो टेस्ट सीरीज हराई हैं. ये भारतीय टीम की ऑस्ट्रेलिया में पहली टेस्ट सीरीज जीत भी थी.

न्यूजीलैंड ने रद्द किया पाकिस्तान दौरा, रावलपिंडी ODI से चंद मिनट पहले सुरक्षा को बताया कारण

कोच शास्त्री आईसीसी ट्रॉफी के साथ अपने कार्यकाल का अंत करना पसंद करेंगे. शास्त्री-कोहली की जोड़ी अभी तक ICC ट्रॉफी नहीं जीत सकी है. शास्त्री ने कहा, "मैं एक बात पर विश्वास करता हूं - कभी भी अपने स्वागत से अधिक नहीं रुकना चाहिए. मैं टीम से जो चाहता था, मैंने उससे ज्यादा हासिल किया है."

रवि शास्त्री 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के बाद टीम इंडिया के मुख्य कोच बने थे. रवि शास्त्री का कार्यकाल यूएई में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप तक है. ऐसी खबरें हैं कि बीसीसीआई ने रवि शास्त्री को दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए कोच बने रहने की पेशकश की लेकिन उन्होंने इसके लिए इंकार कर दिया.

विराट कोहली ने T20I कप्तानी में कौन से तीर मारे हैं?