नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) तुरंत संदेश भेजने वाले लोकप्रिय एप्लिकेशन ‘व्हाट्सऐप’ ने सोमवार को कहा कि उसने अपने पुराने सॉफ्टवेयर पर मौजूद दो बग का समाधान कर लिया है और यह मानने का कोई कारण नहीं है कि ‘‘इन जोखिमों का कभी दुरुपयोग किया गया।’’

आधिकारिक बयान सीईआरटी-इन द्वारा जारी एक हालिया परामर्श के मद्देनजर आया है, जिसमें व्हाट्सऐप उपयोगकर्ताओं को ऐप (एप्लिकेशन) में कुछ कमजोरियों के बारे में आगाह किया गया है जिससे संवेदनशील जानकारी लीक हो सकती है।

व्हाट्सऐप के एक प्रवक्ता ने पीटीआई-भाषा से एक बयान में कहा, ‘‘हम नियमित रूप से सुरक्षा शोधकर्ताओं के साथ काम करते रहते हैं ताकि व्हाट्सऐप लोगों के संदेशों को जिस तरह से सुरक्षित करता है उसे और बेहतर बनाया जा सके।’’

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमने उन दो बग का समाधान कर लिया है जो पुराने सॉफ्टवेयर पर मौजूद थे और हमारे पास यह मानने का कोई कारण नहीं है कि उनका कभी दुरुपयोग किया गया था।’’

प्रवक्ता ने कहा कि व्हाट्सऐप ‘‘सुरक्षित बना हुआ है तथा एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन काम करना जारी रखे हुए है जिसका उद्देश्य लोगों के संदेशों की सुरक्षा करना है।’’

इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रेस्पांस टीम (सीईआरटी-इन) द्वारा शनिवार को जारी ‘‘अति गंभीर’’ श्रेणी के परामर्श में कहा गया था कि ‘‘एंड्रॉयड के लिए व्हाट्सऐप और व्हाट्सऐप बिजनेस के वर्जन वी2.21.4.18 से पहले और आईओएस के लिए व्हाट्सऐप और व्हाट्सऐप बिजनेस के वर्जन v2.21.32 से पहले के’’ सॉफ्टवेयर में कमजोरियां सामने आयी हैं।

सीईआरटी-इन देश में साइबर हमलों के खिलाफ सुरक्षा और भारत के साइबर स्पेस की रक्षा की जिम्मेदारी उठाने वाली संघीय प्रौद्योगिकी शाखा है।

शनिवार को जारी परामर्श में कहा गया है, ‘‘व्हाट्सऐप एप्लिकेशंस में कई कमजोरियां सामने आयी हैं जिनके कारण दूर बैठा हैकर/हमलावर अपनी मर्जी का कोड लिखकर उसका उपयोग कर सकता है और किसी भी सिस्टम/कंप्यूटर में मौजूद संवेदनशील डेटा हासिल कर सकता है।’’

परामर्श में सिफारिश की गई थी कि उपयोगकर्ता गूगल प्ले स्टोर से या आईओएस स्टोर से अपने व्हाट्सऐप को तुरंत अपडेट करें ताकि इन कमजोरियों को दूर किया जा सके और किसी भी आसन्न खतरे से बचा जा सके।