अनुभवी सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा को चेतेश्वर पुजारा की जगह शुक्रवार को पहली बार भारतीय टेस्ट का उपकप्तान बनाया गया. नियमित कप्तान विराट कोहली के पितृत्व अवकाश पर भारत लौटने के बाद जब अजिंक्य रहाणे टीम के कप्तान बने थे तब मेलबर्न में खेले गये बॉक्सिंग डे टेस्ट में पुजारा को उपकप्तान नियुक्त किया गया था.

टीम प्रबंधन ने पहले ही यह फैसला कर लिया था कि अगर रोहित फिट होकर टीम से जुड़ेगे तो वह उपकप्तान होंगे.

इस मामले से जुड़े बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘‘ विराट की गैरमौजूदगी में अजिक्य के कप्तान बनने के बाद भारतीय टीम के उपकप्तान को लेकर कोई भी संदेह नहीं था. यह हमेशा रोहित ही थे और पुजारा को यह जिम्मेदारी तब तक के लिए सौपी गयी थी जब तक वह (रोहित) टीम से नहीं जुड़े थे.’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘ राहित लंबे समय से सीमित ओवरों के प्रारूप में भारतीय टीम के उपकप्तान है. ऐसे में यह जाहिर है कि विराट की गैरमौजूदगी में वह टीम के नेतृत्व समूह का हिस्सा होंगे.’’ रोहित सिडनी में 14 दिनों की पृथकवास पूरा करने के बाद बुधवार को मेलबर्न में भारतीय टीम से जुड़ गये है.

अभी हालांकि यह पता नहीं चला है कि रोहित शुभमन गिल के साथ पारी का आगाज करेंगे या मध्य क्रम में खेलेंगे. अगर वह सलामी बल्लेबाज के तौर पर खेलेंगे तो खराब लय में चल रहे मयंक अग्रवाल टीम से बाहर हो सकते है जबकि उनके मध्यक्रम में खेलने पर हनुमा विहारी को अंतिम 11 से बाहर होना पड़ सकता है.

उन्होंने सात जनवरी को सिडनी में खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट के लिए गुरुवार से अभ्यास करना शुरु कर दिया. रोहित ने 32 टेस्ट में 46 की औसत से 2141 रन बनाये है. भारतीय टीम पांच जनवरी को सिडनी रवाना होगी.