भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने झारखंड विधानसभा परिसर में नमाज अदा करने के लिए अलग से कमरा आवंटित करने के फैसले के खिलाफ आंदोलन जारी करने की चेतावनी दी है. बीजेपी का कहना है कि विधानसभा को किसी धर्म या पंथ में समेटने की जरूरत नहीं है. 

विधानसभा में विपक्षी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने एक ट्वीट में लिखा, "विधानसभा लोकतंत्र का वह मंदिर है, जिसे किसी धर्म या पंथ की परिधि में समेट कर नहीं रखा जा सकता."

उन्होंने आगे लिखा, "झारखंड विधानसभा में किसी वर्ग विशेष के लिए नमाज कक्ष का आवंटन किया जाना न केवल एक गलत परंपरा की शुरुआत है बल्कि लोकतांत्रिक मूल्यों के भी विपरीत है."

यह भी पढ़ें: ममता बनर्जी के विधानसभा पहुंचने का रास्ता साफ, चुनाव आयोग ने उपचुनाव का ऐलान किया

बाबूलाल मरांडी ने कहा, "मैं विधानसभा अध्यक्ष श्री रवींद्र नाथ महतो जी से अविलंब इस निर्णय को वापस लेने का अनुरोध करता हूं, अन्यथा बीजेपी झारखंड इस निर्णय के विरुद्ध सदन से लेकर सड़क तक आंदोलन करेगी."

झारखंड विधानसभा के सचिवालय से दो सितंबर को नमाज अदा करने के लिए एक कमरा आवंटित करने का आदेश दिया गया था. बीजेपी नेता और पूर्व स्पीकर सीपी सिंह ने भी इस फ़ैसला का विरोध करते हुए परिसर में हनुमान मंदिर बनाने की मांग की है. ANI से बात करते हुए उन्होंने कहा, "मैं नमाज़ के कमरे से ख़िलाफ़ नहीं हूं लेकिन उन्हें विधानसभा परिसर में एक मंदिर भी बनाना चाहिए. मैं मांग करता हूं वहां एक हनुमान मंदिर बने. अगर स्पीकर इजाज़त दें, तो हम अपने ख़र्चे पर मंदिर बनवा सकते हैं."

यह भी पढ़ें: अंडरवियर पहने ट्रेन में टहल रहे थे JDU विधायक, सहयात्री के ऐतराज़ पर कही ये बात

यह भी पढ़ें: 'बारिश आगे पीछे करने वाला ऐप', उत्तराखंड के मंत्री धन सिंह रावत का हैरान करने वाला दावा