रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी विमान यात्रा के दौरान कथित रूप से जहर दिए जाने के बाद कोमा में चले गए हैं और उन्हें साइबेरिया में एक अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष में वेंटिलेटर पर रखा गया है. नवलनी के सहयोगियों का मानना है कि राजनीतिक गतिविधियों की वजह से उन्हें जहर दिया गया.

उनकी प्रवक्ता किरा यारमीश ने ट्वीट कर बताया कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के धुर विरोधी 44 वर्षीय नवलनी जब साइबेरिया के शहर तोमस्क से हवाई जहाज से मॉस्को लौट रहे थे तब वह बीमार पड़ गए. उन्होंने कहा, ‘‘ओमस्क में विमान की आपात लैंडिंग कराई गई, नवलनी को जहर दिया गया है.’’

उन्होंने ‘इको मोस्कवी’ रेडियो स्टेशन को बताया कि नवलनी को पसीना आ रहा था और उन्होंने मुझसे बात करने को कहा ताकि वह आवाज पर ध्यान केंद्रित कर सके. इसके बाद वह शौचालय गए जहां वह बेहोश हो गए.

राजनीतिज्ञ और नवलनी के सहयोगी व्लादिमीर मिलोव ने ट्वीट किया, ‘‘लग रहा पुतिन बहुत ही खराब कर रहे हैं, अगर उन्होंने नवलनी को जहर देने का फैसला किया है तो.’’

नवलनी का इस समय ओमस्क एंबुलेंस अस्पताल में इलाज चल रहा है. अस्पताल के डॉक्टर उनकी बीमारी की वजह के बारे में चुप्पी साधे हुए हैं.

अस्पताल के उप प्रमुख डॉक्टर अनातोली कलिनिचेंको ने पत्रकारों से कहा कि नवलनी की हालत गंभीर, लेकिन स्थिर है. उन्होंने बताया कि डॉक्टरों ने विष का पता लगाने सहित कई तरह की जांच की है, लेकिन इसकी विस्तृत जानकारी देने से इनकार कर दिया.

कलिनिचेंको कहा कि कानून डॉक्टरों को मरीज की गोपनीय सूचना देने से रोकता है.

सरकारी संवाद एजेंसी तास ने कहा कि पुलिस अब भी जानबूझकर उन्हें जहर देने की संभावना पर विचार नहीं कर रही है. कानून प्रवर्तन में अज्ञात स्रोत के हवाले से एजेंसी ने कहा कि यह असंभव नहीं है कि उन्होंने खुद ही कल कुछ पीया या खाया हो.

यारमीश ने इस संभावना पर नाराजगी जताई. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘निश्चित तौर पर, केवल चाय खराब थी. यह सरकार का दुष्प्रचार चल रहा है कि जानबूझकर उन्हें जहर नहीं दिया गया, उन्होंने गलती से खुद खाया.’’

नवलनी के डॉक्टर यरोस्लाव अशखमिन ने कहा स्वतंत्र मेडुजा से कहा कि वह उन्हें हनोवर या स्ट्रासबर्ग के अस्पताल में स्थानांतरित करने का प्रयास कर रहे क्योंकि यूरोप के डॉक्टर न केवल बेहतर इलाज कर सकते हैं बल्कि यह भी पता कर सकते हैं कि नवलनी को किस तरह का जहर दिया गया.

गौरतलब है कि पिछले साल भी प्रशासन द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद उन्हें जेल से अस्पताल लाया गया था और उनकी टीम ने जहर दिए जाने का शक जाहिर किया था. डॉक्टरों ने गंभीर एलर्जी होने का हवाला देते हुए अगले दिन अस्पताल से छुट्टी देकर उन्हें वापस जेल भेज दिया था.

नवलनी का संगठन फाउंडेशन फॉर फाइटिंग करप्शन शीर्ष स्तर पर कार्यरत अधिकारियों सहित सरकार में भ्रष्टाचार का खुलासा करता है. हालांकि, पिछले महीने कथित तौर पर रूसी राष्ट्रपति के करीबी कारोबारी द्वारा मुकदमा दर्ज कराने के बाद इसे बंद कर दिया गया था.