शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ ऐसे व्यवहार किया जा रहा है, जैसे वे ''आतंकवादी'' हों और यह दुखद है कि उन्हें दिल्ली में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही है.

राउत ने पत्रकारों से कहा कि सरकार को किसानों की मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करना चाहिए.

केन्द्र द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हजारों किसान 'दिल्ली चलो' कूच के तहत राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर डेरा जमाए हुए हैं.

राउत ने कहा, ''दुख की की बात है कि उन्हें (किसानों) दिल्ली आने की अनुमति नहीं दी जा रही और उनके साथ ऐसे व्यवहार किया जा रहा है, जैसे वे आतंकवादी हों तथा किसी दूसरे देश से आए हों. सरकार को किसानों की मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करना चाहिए.''