बिहार में कोरोना वायरस की दूसरी लहर को लेकर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. कोरोना संक्रमण को देखते हुए, राज्य में सभी स्कूल-कॉलेज समेत शिक्षण संस्थानों को 11 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया है. इसके साथ ही सावर्जनिक सभाओं पर भी पाबंदी लगा दी गई है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना के मामले को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई, जिसमें फैसला लिया गया है कि सभी शिक्षण संस्थानों को 11 अप्रैल तक बंद कर दिया जाए.

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी सोते जागते 'कांग्रेस मुक्त भारत' कहते हैं 'CPM मुक्त भारत' क्यों नहीं कहते?- राहुल गांधी

इसके साथ ही सरकार ने अगले आदेश तक सार्वजनिक सभाओं पर प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है. हालांकि, सरकार ने शादी और पारिवारिक कार्यक्रमों पर पाबंदी लगाने की बात नहीं कही है.

यह भी पढ़ेंः बीजेपी पर आरोप लगाते हुए बोले कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला- EVM मशीने हमेशा इन्हीं के पास क्यों मिलती है?

सीएम नीतीश कुमार ने ये भी कहा है कि, आगे की परिस्थितियों के अनुसार इसके बाद फैसला लिया जाएगा.

आदेश में यह भी कहा गया है कि, 15 अप्रैल तक सार्वजनिक वाहनों में क्षमता के 50 फीसद से अधिक यात्री नहीं बैठाए जाएंगे.

सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन फॉलो करवाने को लेकर निर्देश दिया है और कहा है इसे सख्ती से पालन कराए जाएं.

यह भी पढ़ेंः PPF समेत Post Office के अन्य योजानाओं पर TDS संबंधित नए नियम जान लें