वैज्ञानिकों ने एक नया वैक्सीन विकसित किया है जो चूहों में ‘‘कोरोना वायरस से जुड़े व्यापक रेंज’’ को रोकने में मदद करता है. इस खोज से भविष्य के ऐसे महामारियों एवं संभावित वायरसों को रोकने में मदद मिल सकती है जो जानवरों से मनुष्य में फैलते हैं.

‘साइंस’ पत्रिका में ‘मोजैक नैनो पार्टिकल’ टीका को पिंजड़े के आकार का बताया गया है जो एक ही तरह के 60 प्रोटीन से मिलकर बना है. इनमें से हर छोटा प्रोटीन वेलक्रो (जोड़ने वाली सामग्री) की तरह काम करता है.

अमेरिका में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के एलेक्स कोहेन सहित वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में विभिन्न तरह के कोरोना वायरस के प्रोटीन का आकलन किया और हर प्रोटीन को एक नाम देकर पिंजड़े पर चिपकाया.

अध्ययन में बताया गया कि जब इन वायरल टुकड़ों को पिंजड़े पर चिपकाया गया तो ये अति सूक्ष्म कण की तरह दिखे, जो सतह पर विभिन्न कोरोना वायरस स्ट्रेन का प्रतिनिधित्व कर रहे थे.

अध्ययन के मुताबिक इसके बाद टीका दिए गए चूहों से उत्पन्न रोग प्रतिरोधक कोरोना वायरस के विभिन्न स्ट्रेन पर प्रतिक्रिया देने में सक्षम थे.

अध्ययन की सह लेखिका पामेला जोर्कमैन ने कहा कि एलेक्स के परिणाम दर्शाते हैं कि कोरोना वायरस स्ट्रेन को निष्क्रिय करने लिए भी अलग-अलग तरह की रोग प्रतिरोधक प्रतिक्रियाएं विकसित की जा सकती हैं.