मुंबई के प्रसिद्ध सिद्धिविनायक मंदिर में सोमवार से प्रतिदिन केवल एक हजार श्रद्धालुओं को अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी. श्रद्धालुओं को मोबाइल ऐप के माध्यम से पूजा के लिए अलग-अलग समय दिया जाएगा. यह जानकारी रविवार को इसके अध्यक्ष आदेश बांडेकर ने दी. वहीं, शिरडी साईं मंदिर भी 16 नवंबर से खोले जाएंगे.

कोविड-19 के कारण मार्च में लॉकडाउन लगने के बाद महाराष्ट्र में बंद धार्मिक स्थल सोमवार से खुलने वाले हैं.

शिरडी साईं मंदिर में भक्तों को 'दर्शन' के लिए टाइम-स्लॉट प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन बुकिंग करनी होगी. शिरडी पहुंचकर लोगों को टोकन लेना होगा, और फिर नंबर आने पर श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे. वहीं, 8-10 वर्ष की आयु के बच्चों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.

वहीं, सिद्धिविनायक ट्रस्ट ने एक मोबाइल ऐप विकसित किया है जिसके माध्यम से सोमवार से श्रद्धालु दर्शन के लिए समय बुक कर सकते हैं.

सिद्धिविनायक ट्रस्ट के अध्यक्ष आदेश बांडेकर ने कहा, ‘‘श्रद्धालुओं को दर्शन करने के लिए अपने मोबाइल फोन पर ‘श्री सिद्धिविनायक मंदिर’ ऐप डाउनलोड करना होगा. उन्हें ब्यौरा भरना होगा और समय बुक करना होगा जिसके बाद निर्धारित समय के साथ ‘क्यूआर कोड’ का सृजन होगा. दिन भर में एक हजार लोगों के लिए ‘क्यूआर’ कोड का सृजन किया जाएगा.’’

बांडेकर ने कहा कि श्रद्धालुओं को मंदिर में स्कैनर में ‘क्यूआर कोड’ डालना होगा. उन्होंने कहा, ‘‘आवश्यक जांच के बाद उन्हें अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘बैरियर तभी खोला जाएगा जब श्रद्धालु के शरीर का तापमान सामान्य होगा और वह मास्क पहने होगा.’’

‘आरती’ और ‘पूजा’ को छोड़कर हर घंटे सौ लोगों को अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी.

बांडेकर ने वरिष्ठ नागरिकों से अपील की कि कोविड-19 की स्थिति सामान्य होने तक वे मोबाइल ऐप पर भगवान गणेश का दर्शन करें.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को घोषणा की कि राज्य में धार्मिक स्थल सोमवार से खोले जाएंगे.