कांग्रेस ने निशानेबाज वर्तिका सिंह की ओर से लगाए गए आरोपों को लेकर सोमवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का इस्तीफा मांगा और कहा कि सच्चाई जानने के लिए इस पूरे मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ये आरोप गंभीर हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को न्यायिक जांच का आदेश देना चाहिए ताकि दोषी को सजा मिल सके.

वर्तिका सिंह ने हाल ही आरोप लगाया है कि राष्ट्रीय महिला आयोग (NWC) का सदस्य बनाने के लिए उनसे महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और दो अन्य लोगों ने रिश्वत की मांग की. वर्तिका ने अदालत का रुख भी किया है.

स्मृति ईरानी के वकील की कीरत नागरा ने शनिवार को कहा कि निशानेबाज वर्तिका सिंह द्वारा उनके (मंत्री के) खिलाफ दायर मामला झूठ पर आधारित है तथा राजनीतिक संरक्षण इस मामले में कहीं अधिक स्पष्ट रूप में नजर आ रहा है. नागरा ने कहा कि यह मामला मंत्री की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने और उन्हें बदनाम करने की कोशिश है और वह इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगी.

इस मामले पर सुरजेवाला ने संवाददाताओं से बातचीत में सवाल किया, ‘‘आज स्मृति ईरानी जी आप इस्तीफ़ा देकर निष्पक्ष जांच के लिए सामने क्यों नहीं आतीं? प्रधानमंत्री जी स्मृति ईरानीजी का इस्तीफ़ा लेकर एक स्वतंत्र न्यायिक जांच का आदेश क्यों नहीं देते?’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमें नहीं पता कि इसकी सच्चाई क्या है. लेकिन जांच होने तक मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. प्रधानमंत्री न्यायिक जांच का आदेश दें और 6 महीने में रिपोर्ट आ जाए. दोषी हैं तो स्मृति ईरानी जी को सजा दीजिए, दोषी नहीं हैं तो जो गलत हैं, उसे सजा दीजिए और स्मृति ईरानी जी को वापस मंत्री बना दीजिए.’’