चंडीगढ़, 22 मई (भाषा) पंजाब की कांग्रेस इकाई में गुटबाजी की अटकलों के बीच कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्य के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को चुनौती दी है कि वह उन पर लगाए गए दलबदली की कोशिश के आरोप को साबित करके दिखाएं।

सिद्धू धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी के मामले में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के आलोचक रहे हैं। अमृतसर के विधायक ने कहा कि उन्होंने किसी से भी कभी किसी पद के लिए बात नहीं की है लेकिन उन्हें कई बार मंत्रिमंडल में शामिल होने की पेशकश की गई।

उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो अपलोड किया है, जिसमें वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाद्रा के साथ तस्वीरों में नजर आ रहे हैं।

पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने पिछले महीने पंजाब पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा कोटकपूरा गोलीकांड को लेकर पेश की गई जांच रिपोर्ट को रद्द कर दिया था और इसके बाद से सिद्धू इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की आलोचना कर रहे हैं। पंजाब के फ़रीदकोट में धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान यह घटना हुई थी।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने भी सिद्धू की आलोचना करते हुए उन्हें ‘पूरी तरह से अनुशासनहीन’ करार दिया था और कहा था कि सिद्धू आम आदमी पार्टी में शामिल हो सकते हैं।

सिद्धू ने एक शनिवार को एक ट्वीट में कहा, ‘‘ आप ऐसी एक बैठक के बारे में भी बताएं जिसमें मैं किसी अन्य पार्टी नेता से मिला हूं। मैंने अब तक किसी से भी किसी पद के लिए नहीं आग्रह किया है। मैं सिर्फ पंजाब की समृद्धि चाहता हूँ। कई बार मुझे मंत्रिमंडल में शामिल होने की पेशकश की गई लेकिन मैंने स्वीकार नहीं किया। अब, हमारे आलाकमान ने हस्तक्षेप किया है, प्रतीक्षा करूंगा।’’