पश्चिम बंगाल के बीरभूम से तृणमूल कांग्रेस की बागी सांसद शताब्दी राय ने पार्टी छोड़ने के संकेत दिए हैं. राय को सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी से दिक्कत हो रही है और वह शनिवार को कोई ''निर्णय'' ले सकती हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि वह शनिवार को दिल्ली जा रही हैं. इसके बाद से अटकलें तेज हो गई हैं कि शताब्दी राय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे.

हालांकि, राय ने कहा है कि वह दिल्ली जा रही हैं इसका मतलब ये नहीं है कि वह बीजेपी में शामिल होने जा रही हूं. मैं एक सांसद हूं और मैं दिल्ली जा सकती हूं.

सिनेमा से सियासत में आईं राय ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि उनके संसदीय क्षेत्र में चल रहे पार्टी के कार्यक्रमों के बारे में उन्हें नहीं बताया जा रहा है, और इससे उन्हें ''मानसिक कष्ट'' हुआ है.

नयी दिल्ली जा रहीं राय ने कहा कि अगर वह कोई ‘‘फैसला’’ करती हैं तो शनिवार दोपहर दो बजे लोगों को उसके बारे में बताएंगी.

राय की इस पोस्ट से टीएमसी में हलचल मच गई है. पार्टी ने उनसे बात करने का वादा किया है.

पार्टी सूत्रों के अनुसार बीरभूम जिला टीएमसी प्रमुख अनुव्रत मंडल से उनके मतभेद हैं.

राय ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ''इस क्षेत्र में मेरा निकट संबंध है. लेकिन हाल ही में कई लोग मुझसे पूछ चुके हैं कि मैं पार्टी के विभिन्न कार्यक्रमों से नदारद क्यों हूं. मैं उनको बताना चाहती हूं कि मैं सभी कार्यक्रमों में शरीक होना चाहती हूं लेकिन मुझे मेरे संसदीय क्षेत्र में आयोजित पार्टी कार्यक्रमों की जानकारी नहीं दी जा रही, तो मैं कैसे शरीक हो सकती हूं. इसके चलते मुझे मानसिक कष्ट हुआ है.''

टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी राय से बात करेगी. राय के अलावा टीएमसी के एक और वरिष्ठ नेता एवं राज्य के मंत्री राजीव बनर्जी ने भी एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिये कहा है कि वह शनिवार को दोपहर में फेसबुक लाइव के जरिये अपने अगले कदम के बारे में बताएंगे. बनर्जी ने पार्टी से दूरी बना रखी है.