भारत ने श्रीलंका के खिलाफ 3 मैच की एकदिवसीय सीरीज में 2-0 से अजेय बढ़त बना ली है. हाल के कुछ साल श्रीलंका क्रिकेट के लिए अच्छे नहीं रहे हैं. उनका नाम कई विवादों में भी आया है. इसमें से एक बड़ा विवाद खिलाड़ियों के सालाना कॉन्ट्रैक्ट से जुड़ा हुआ है. कई खिलाड़ियों ने तो इसपर साइन तक नहीं किए हैं. श्रीलंकाई मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार श्रीलंका के खिलाड़ियों की आर्थिक हालत काफी खराब हो गई है, उन्हें होम इंश्योरेंस और घर की किस्त चुकाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. 

ये भी पढ़ें:आवेश खान और वाशिंगटन सुंदर ने बदली टीमें, IND के खिलाफ ENG की टीम के लिए खेले

द संडे मॉर्निंग की रिपोर्ट के अनुसार खिलाड़ियों ने श्रीलंका बोर्ड को पत्र लिखकर कॉन्ट्रैक्ट पर एक बार फिर सोचने और पुराने बकाया का जल्द से जल्द भुगतान करने की मांग की है. पत्र में खिलाड़ियों ने लिखा, "नए कॉन्ट्रैक्ट के चलते हमें जनवरी 2021 से एक भी पैसा नहीं मिला है. हमें नए कॉन्ट्रैक्ट के बारे में कोई जानकारी नहीं है. इसकी सूचना हमें लिखित में दी जानी चाहिए." कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार इस नए कॉन्ट्रैक्ट के चलते खिलाड़ियों की फीस में 30 प्रतिशत की कटौती की जा रही है. 

इस नए सालाना कॉन्ट्रेक्ट के चलते खिलाड़ियों की आर्थिक हालत काफी खराब हो गई है. खिलाड़ियों के लिए अपने परिवार वालों की देखभाल करने और घर की किस्त भरने तक के पैसे नहीं है. कुछ खिलाड़ियों ने तो अपनी शादियों को भी रोक दिया है. वैसे तो यह लड़ाई टीम के सीनियर खिलाड़ी और बोर्ड के बीच है लेकिन इसमें टीम के जूनियर खिलाड़ी भी फंस रहे हैं.  

ये भी पढ़ें: SL v IND: आदत आसानी से नहीं छूटती, श्रीलंका को हारने की लगी है

श्रीलंकाई मीडिया की इस रिपोर्ट के मुताबिक टीम के जूनियर खिलाड़ी इस विवाद में नहीं उलझना चाहते. ऐसे में खिलाड़ियों ने बोर्ड को पत्र लिखा है जहां उन्होंने बोर्ड की बात मान ली है और बोर्ड से मांग कर रहे हैं कि उनका सालाना कॉन्ट्रैक्ट शुरू कर दिया जाए.  

ये भी पढ़ें: नंबर-8 पर उतरे दीपक चाहर ने उड़ाया गर्दा, मार लिया मैदान, विराट-रोहित ने कही ये बात