राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेज प्रताप यादव ने अपने बीमार पिता एवं पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की रिहाई की मांग करते हुये अनोखी शैली में एक अभियान शुरू किया है. इसके तहत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सैकड़ों समर्थकों ने पोस्टकार्ड भेजा है. तेज प्रताप यादव ने सैकड़ों समर्थकों के साथ पटना के बड़े डाकघर की ओर मार्च निकाला. इन सभी लोगों के पास बड़ी तादाद में पोस्टकार्ड थे, जो राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम थे. इन सभी पोस्टकार्डों पर जेल में बंद राजद प्रमुख लालू यादव की रिहाई की मांग की गई थी.

दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे पर TMC ने कहा- 'हमारे लिए कोई झटका नहीं'

तेज प्रताप ने कहा, ‘‘ हम समाजवादी आंदोलन के हित में यहां लाखों आजादी पत्र लेकर निकले हैं. यह अभियान पूरे बिहार में चलाया जा रहा है और हमें आशा है कि राष्ट्रपति लोगों की आवाज सुनेंगे.’’

अभियान के बारे में पूछे जाने पर राजद के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर यह तेज प्रताप यादव की निजी पहल है. हालांकि, पार्टी उनका समर्थन करती है क्योंकि यह हमारे निर्विवाद नेता से जुड़ा मामला है.’’

वहीं, भाजपा ने तेज प्रताप के इस अभियान को लेकर निशाना साधा और इसे राजद के परिवारवाद से जोड़ा.

भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर कहा कि लालू प्रसाद को एक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद सजा दी गई है.

राहुल गांधी ने किया दावा, बोले- पीएम ने चीन को दिया भारत माता का एक टुकड़ा

तेज प्रताप यादव की ओर इशारा करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘ अलग-थलग पड़े राजद के राजकुमार अब राष्ट्रपति को दो लाख पोस्टकार्ड भेजकर न्यायपालिका में अविश्वास पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं.’’

डाक विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि उचित प्रकार से जमा किए गए पोस्ट कोर्ड को नियमानुसार भेजा जाएगा.

उल्लेखनीय है कि लालू यादव चारा घोटोले से संबंधित कई मामलों में सजा काट रहे हैं. कई बीमारियों से ग्रस्त यादव का वर्तमान में दिल्ली के एम्स में उपचार किया जा रहा है.

आखिर क्यों चीन ने BBC के प्रसारण को किया बैन? जानें कारण