प्रख्यात अभिनेता व दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित सौमित्र चटर्जी का कोलकाता में 85 वर्ष की उम्र में निधन. उनका लंबे समय से कोलकाता के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था. 

उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने शनिवार को बताया था कि चटर्जी जीवन रक्षक प्रणाली पर हैं और प्रतिक्रिया नहीं दे रहे हैं. उन्होंने बताया कि तमाम कोशिशों के बावजूद उनकी शारीरिक प्रणाली प्रतिक्रिया नहीं दे रही है. चटर्जी की स्थिति पहले से और खराब हो गई है. वह जिंदगी के लिए लड़ रहे हैं.

चटर्जी छह अक्टूबर को कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह बाद में संक्रमण मुक्त भी हो गए थे, लेकिन उनकी तबीयत बिगड़ती चली गई.

सम्मानित अभिनेता थे चटर्जी

सौमित्र ने ऑस्कर विनिंग डायरेक्टर सत्यजीत रे के साथ 14 फिल्मों में काम किया था. सौमित्र पहले भारतीय थे जिन्हें किसी कलाकार को दिए जाने वाला फ्रांस का सबसे बड़ा अवॉर्ड Ordre des Arts et des Lettres दिया गया था. वे दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित थे. उन्हें 3 बार नेशनल अवॉर्ड मिला था. इसके अलावा वे संगीत नाटक एकेडमी अवॉर्ड, 7 फिल्मफेयर अवॉर्ड के साथ पद्म भूषण से सम्मनित किए गए थे.