शिरोमणि अकाली दल (SAD) प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने शनिवार को आरोप लगाया कि NIA जैसी एजेंसियों के मार्फत नोटिस भिजवाकर किसान नेताओं को डराने का प्रयास किया जा रहा है.

उन्होंने केंद्र सरकार पर यह आरोप भी लगाया कि वह नये कृषि कानूनों को लेकर वार्ता में अगंभीर रही है और कहा कि सरकार केवल ‘‘किसानों को थकाने का प्रयास कर रही है.’’

बादल ने कहा, ‘‘साथ ही वह (केंद्र सरकार) राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) जैसी विभिन्न एजेंसियों के माध्यम से नोटिस भिजवाकर किसानों को डराने का प्रयास कर रही है. किसान देश विरोधी नहीं हैं. हम इसकी (नोटिस भेजे जाने की) निंदा करते हैं.’’

अकाली दल के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने भी केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह किसानों को ‘‘नक्सली और खालिस्तानी’’ बताकर उन्हें बदनाम करने का प्रयास कर रही है.

उन्होंने कहा कि शिअद हमेशा किसानों के साथ खड़ा रहा है और जब सरकार ने उनकी बात नहीं सुनी, तो उसने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) छोड़ दिया.

बादल ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की भी आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि वह लोगों से किए गए वादों को पूरा करने में विफल रहे हैं.