नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने अवकाशकालीन पीठों के समक्ष ‘‘विविध प्रकार के अत्यावश्क मामले’’ सुनवाई के लिये सूचीबद्ध करने के बारे में परिपत्र जारी किया है।

न्यायालय द्वारा मंगलवार को जारी किया गया परिपत्र उन पीठों के संबंध में है जो ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान 26 मई से दो जून के बीच मामलों की सुनवाई करेंगी।

उच्चतम न्यायालय 10 मई से 28 जून तक वार्षिक ग्रीष्मकालीन अवकाश पर है।

अवकाश के अगले खंड के वास्ते पीठों का गठन बाद में अधिसूचित किया जाएगा।

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण ने ‘‘न्याय की मांग को पूरा करने के क्रम में और पुनर्निर्धारित ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान अत्यंत आवश्यक प्रकृति के मामलों की सुनवाई के लिए’’ संबंधित दिशा-निर्देश जारी किए।

पुनर्निर्धारित ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान 26 मई से दो जून के बीच दो खंडपीठ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सुनवाई करेंगी।

परिपत्र के अनुसार पहली पीठ में न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस होंगे। इसमें कहा गया है कि दूसरी पीठ में न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत 26 से 28 मई तक मामलों की सुनवाई करेंगे। इसके बाद, मामलों की 29 मई से दो जून तक होने वाली सुनवाई के लिए पीठ में न्यायमूर्ति कांत की जगह न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी शामिल होंगे।