मुंबई पुलिस ने सोमवार को सुशांत सिंह राजपूत के पिता के इस दावे को खारिज कर दिया कि उनके परिवार ने राजपूत की जान को खतरा होने के बारे में 25 फरवरी को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. राजपूत के पिता के के सिंह ने कहा है कि उन्होंने अपने बेटे की मौत से लगभग चार महीने पहले 25 फरवरी को बांद्रा पुलिस थाने में लिखित शिकायत की थी कि राजपूत की जान को खतरा है.

मुंबई पुलिस ने एक प्रेस नोट में इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि बांद्रा पुलिस के अधिकारियों को राजपूत की जान को खतरे के बारे में उनके परिवार से कोई शिकायत नहीं मिली.

बता दें कि सुशांत के पिता ने कहा था कि 25 फरवरी को मैंने बांद्रा पुलिस को सूचित किया कि वह खतरे में है. 14 जून को उसकी मृत्यु हो गई और मैंने उन्हें अपनी 25 फरवरी की शिकायत में नामित लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा, लेकिन 40 दिनों तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. सुशांत की मौत के बाद इसलिए मैंने पटना में एफआईआर दर्ज कराई.

उन्होंने कहा कि, पटना पुलिस कार्रवाई कर रही है लेकिन आरोपी भाग रहे हैं. उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार और कैबिनेट मंत्री संजय झा का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने सच का साथ दिया.