एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी अब तक नहीं सुलझी है. दो महीने से भी अधिक समय से इस मामले में लगातार जांच चल रही है, लेकिन इसकी गुत्थी सुलझाने में पुलिस सफल नहीं हो पाई है. वहीं, सुशांत के पिता केके सिंह के वकील विकास सिंह ने कहा है कि, अब जो बातें सामने आ रही है. ये बहुत बड़ा सवाल है कि यह आत्महत्या है ही नहीं.

वकील ने कहा, 'किसी ने सुशांत को पंखे से लटकते नहीं देखा है. सुशांत के गले पर जिस प्रकार से निशान थे, जिस प्रकार से अब बातें सामने आ रही हैं, इससे बड़ा सवाल उठता है कि यह आत्महत्या है ही नहीं.'

उन्होंने आगे कहा, 'एक साधारण व्यक्ति भी समझ सकता है कि अगर आप लटक कर मरना चाहते हैं तो आप एक स्टूल पर चढ़ेंगे, आप बेड से कूदकर लटकेंगे. इससे साफ है कि, मुंबई पुलिस ने इस मामले में बड़ी लापरवाही बरती है.'

बता दें, इससे पहले वकील विकास सिंह ने सुशांत के पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर भी सवाल खड़े किए थे. उन्होंने कहा था कि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डेथ ऑफ टाइम नहीं दिया गया है. इसके लिए अस्पताल और मुंबई पुलिस को जवाब देना होगा.

वहीं, रिया चक्रवर्ती द्वारा कोर्ट को दी गई सफाई पर विकास सिंह ने कहा, रिया चक्रवर्ती ने प्रेस की रिपोर्ट पर भरोसा करते हुए कोर्ट में बहुत गैरजिम्मेदाराना बयान दिया कि बिहार के मुख्यमंत्री इसे राजनीतिक मुद्दा बना रहे.

उन्होंने कहा, कोर्ट के फैसले से पहले रिया ने बयान दिया है, यह सहानुभूति प्राप्त करने की कोशिश है. इससे उनको सहानुभूति नहीं मिलेगी, इससे उनका रवैया स्पष्ट हो रहा है कि उन्होंने कैसे सुशांत का इस्तेमाल किया और जरूरत खत्म हो गई तो फेंक दिया.

बता दें, सुशांत के पिता केके सिंह ने 25 जुलाई को पटना में रिया चक्रवर्ती, उनके माता पिता इंद्रजीत चक्रवर्ती एवं संध्या चक्रवर्ती, भाई शोविक चक्रवर्ती, राजपूत के प्रबंधक सैमुएल मिरांडा और श्रुति मोदी तथा अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कराया था और आरोप लगाया था कि इन लोगों ने उनके बेटे के साथ धोखाधड़ी की है और उसे आत्महत्या करने के लिये उकसाया है. सुशांत की लाश 14 जून को उनके मुंबई स्थित आवास पर मिली थी.