देशभर में आज शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है. शिक्षक की भूमिका केवल कक्षा की चार दीवारी तक ही सीमित नहीं है. एक अच्छा शिक्षक छात्र के समग्र व्यक्तित्व को आकार देने में मदद करता है और उन्हें भविष्य में जीवन में आने वाली किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार करता है. सरल शब्दों में, शिक्षक बच्चों के समग्र विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. वे कल्पना को प्रज्वलित कर सकते हैं, आशा को प्रेरित कर सकते हैं और एक बच्चे में सीखने के लिए प्यार प्रदान कर सकते हैं. शिक्षक और छात्र के इस विशेष बंधन को चिह्नित करने के लिए हम शिक्षक दिवस मनाते हैं. इसी अवसर पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद रविवार, 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के अवसर पर 44 मेधावी शिक्षकों को वस्तुतः सम्मानित करेंगे, जैसा कि इस सप्ताह के शुरू में शिक्षा मंत्रालय में संयुक्त सचिव आरसी मीणा द्वारा घोषित किया गया था.

यह भी पढ़े: Teacher's Day: इन ग्रीटिंग कार्ड से कर सकते हैं अपने शिक्षक को विश, हो जाएंगे पुरानी यादें ताजा

मीना ने घोषणा के दिन समाचार एजेंसी एएनआई को बताया था की समारोह सुबह 10:30 बजे शुरू होगा और एक घंटे तक चलेगा. शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले 44 शिक्षकों को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. जूरी द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में चयन किया गया है. उन्होंने आगे कहा, "मैं यह बताना चाहूंगा कि राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए चयन जिला स्तर पर शुरू होता है, और फिर यह राज्य स्तर पर होता है. अंत में, राष्ट्रीय स्तर पर मेधावी शिक्षकों का चयन किया जाता है और सभी चयनित शिक्षकों को शिक्षक दिवस पर सम्मानित किया जाएगा.”

पिछले साल, 5 सितंबर को राष्ट्रपति कोविंद द्वारा कुल 47 पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया गया था. शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार, जिसे 1958 में स्थापित किया गया था, का उद्देश्य देश में बेहतरीन शिक्षकों के अद्वितीय योगदान का जश्न मनाना. साथ ही उन शिक्षकों का आभार प्रकट करना है जिन्होंने स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के साथ उनके छात्रों के जीवन को भी समृद्ध बनाया है.

यह भी पढ़े: Happy Teacher's day 2021: जानें हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है?

रविवार को शिक्षा मंत्रालय के तहत शिक्षक पर्व-2021 की शुरुआत भी होगी. कार्यक्रम ऑनलाइन मोड में आयोजित किया जाएगा और 17 सितंबर तक जारी रहेगा.

शिक्षक पर्व के तहत 17 सितंबर तक होंगे कई कार्यक्रम

शिक्षक पर्व के तहत 17 सितंबर तक वेबिनार, चर्चा, प्रस्तुतीकरण समेत अन्य कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा. जिनमें देश के विभिन्न स्कूलों के शिक्षा विशेषज्ञों को अपने अनुभव, सीख और भविष्य के रोडमैप साझा करने के लिए आमंत्रित किया गया है. उल्लेखनीय है कि दूरदराज के स्कूलों से आए शिक्षक और प्रैक्टिसनर्स स्कूलों में गुणवत्ता और नवाचार से संबंधित मुद्दों पर बात करेंगे.

शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती पर मनाया जाता है, जिनका जन्म 1888 में इसी दिन हुआ था.वह पहले उपराष्ट्रपति और बाद में भारत के दूसरे राष्ट्रपति भी थे. पहला शिक्षक दिवस 1962 में मनाया गया था.

यह भी पढ़े: Teacher’s Day 2020: बॉलीवुड की इन 10 फिल्मों ने दी हमें खास शिक्षा