दुबई, 25 मई (भाषा) अनुभवी मुक्केबाज शिव थापा (64 किग्रा) ने मंगलवार को यहां क्वार्टर फाइनल में कुवैत के नादेर ओदाह को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में लगातार पांचवां पदक सुनिश्चित किया।

थापा ने एकतरफा मुकाबले में कुवैत के मुक्केबाज को 5-0 से हराया। सेमीफाइनल में थापा का सामना गत चैंपियन और शीर्ष वरीय ताजिकिस्तान के बखोदुर उस्मोनोव से होगा। उस्मोनोव ने जॉन पॉल पानुआयन को हराया।

थापा ने 2013 में एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण, 2015 और 2019 में कांस्य और 2017 में रजत पदक जीता। मौजूदा टूर्नामेंट में उनका कम से कम कांस्य पदक जीतना तय हो गया है। उन्होंने टूर्नामेंट के इतिहास के सबसे सफल भारतीय मुक्केबाज के अपने ही रिकॉर्ड में सुधार किया।

थापा ने शुरुआत से ही दबदबा बनाए रखा और विरोधी मुक्केबाज उन्हें कोई टक्कर नहीं दे पाया। असम के मुक्केबाज ने विशेषकर अपने बायें हाथ से लगाए मुक्कों से प्रभावित किया।

हालांकि राष्ट्रमंडल खेलों के कांस्य पदक विजेता मोहम्मद हुसामुद्दीन (56 किग्रा) को कड़ी चुनौती पेश करने के बावजूद क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान के गत विश्व चैंपियन मिराजिजबेक मिर्जाहालिलोव के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा।

भारतीय मुक्केबाज ने शीर्ष वरीय गत चैंपियन को कड़ी टक्कर दी लेकिन इसके बावजूद उन्हें खंडित फैसले में 1-4 से हार का सामना करना पड़ा।

एशियाई खेलों के भी चैंपियन मिराजिजबेक को हुसामुद्दीन ने अपने ताबड़तोड़ मुक्कों से एक से अधिक बार परेशान किया लेकिन उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज ने अधिकांश मुकाबले में अपने शानदार फुटवर्क और सीधे मुक्कों से भारतीय मुक्केबाज को पछाड़ दिया।

इससे पहले भारत को एक और निराशा हाथ लगी जब सोमवार देर रात हुए मुकाबले में सुमित सांगवान को पुरुषा लाइट हैवीवेट वर्ग (81 किग्रा) में ईरान के मेसाम घेसलाघी के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।

ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके भारत के पुरुष मुक्केबाज अमित पंघाल (52 किग्रा), विकास कृष्ण (69 किग्रा) और आशीष कुमार (75 किग्रा) बुधवार को अपने अभियान की शुरुआत करेंगे।

विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता और गत चैंपियन पंघाल का सामना मंगोलिया के खारखू एंखमानदाख से होगा।

ये दोनों पिछली बार पिछले साल जोर्डन के अम्मान में एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर में आमने सामने थे जहां भारतीय मुक्केबाज ने कड़े मुकाबले में जीत दर्ज की थी।

एशियाई खेलों के चैंपियन विकास का सामना ईरान के मोसलेम मालामिर से होगा जबकि पिछली बार के रजत पदक विजेता आशीष की भिड़ंत विश्व चैंपियनशिप और एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता कजाखस्तान के अबिलखान अमानकुल से होगी।

भाषा सुधीर नमिता

नमिता