नयी दिल्ली, 25 मई (भाषा) बायोकॉन की प्रमुख किरण मजूमदार-शॉ ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन का समर्थन किया है जिन्होंने राष्ट्रों का आह्वान करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिये विज्ञान आधारित नेतृत्व और नीति होनी चाहिए।

स्वामीनाथन ने 22 मई को एक समारोह में महामारी से निपटने के दौरान विनम्र और दयालु दृष्टिकोण के महत्व को रेखांकित किया था जो अक्सर राष्ट्रों के नियंत्रण व साधनों से परे होता है।

मजूमदार-शॉ ने मंगलवार को ट्वीट किया, “डॉक्टर सौम्या से सहमत हूं कि राष्ट्रों में विज्ञान आधारित नेतृत्व व नीति होनी चाहिए और उन्हें कोविड-19 जैसी गतिशील महामारी से निपटने के लिये साक्ष्य आधारित दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।”

स्वामीनाथन ब्रिटेन के नेतृत्व वाले 20 सदस्यीय विश्वव्यापी विशेषज्ञ दल ‘महामारी तैयारी साझेदारी’ (पीपीपी) का हिस्सा हैं जिसे जून में ब्रिटेन की मेजबानी में कॉर्नवाल में होने वाले जी7 शिखर सम्मेलन में दुनिया के नेताओं को रिपोर्ट सौंपनी है।

जैवप्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनी बायोकॉन की कार्यकारी अध्यक्ष मजूमदार-शॉ ने पूर्व में देश में कोविड-19 टीकाकरण की स्थिति की तुलना शादी के लिये रिश्ता खोजने से की थी। दरअसल उनका इशारा समूची टीकाकरण प्रक्रिया को लेकर बनी मौजूदा भ्रम की स्थिति की तरफ था।

उन्होंने कोविड-19 रोधी टीकों की कमी पर भी चिंता जताई और सरकार से उनकी उपलब्धता के संदर्भ में बेहतर पारदर्शिता की मांग की जिससे नागरिक धैर्य के साथ अपनी बारी की प्रतीक्षा कर सकें।

भाषा प्रशांत नरेश

नरेश