केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों ने विरोध प्रदर्शन जारी रखा है. पिछले 32 दिनों से इन राज्यों के दिल्ली से लगी सीमाओं पर हजारों किसान अपनी मांग पर डटे हुए हैं. अब गाजीपुर बॉर्डर पर डटे किसानों ने सरकार को कह दिया है कि कानूनों की वापसी पर ही वो घर जाएंगे वरना हमेशा यहीं बैठे रहेंगे.

ANI के मुताबिक, कृषि कानूनों के खिलाफ गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन आज 32वें दिन भी जारी है. एक प्रदर्शनकारी ने बताया, "कल की बैठक में अगर सरकार ने हमारी बात नहीं मानी तो हम प्रदर्शन करते रहेंगे, हम पीछे नहीं हटेंगे. अगर कानूनों की वापसी होगी तो हम घर जाएंगे वरना नहीं जाएंगे."

दिसंबर खत्म होने को है लेकिन इन किसानों की मांगों पर अभी तक कोई हल नहीं निकला है. सरकार ने कई दौर की बाचतीच किसानों से की है लेकिन अभी तक बेनतीजा बैठक ही हासिल हुई. कड़कड़ाती ठंड में इन किसानों का बैठना मुश्किल है लेकिन सरकार के बनाए कानूनों के खिलाफ इनका संकल्प निश्चित है और ये लोग सरकार के आगे डटे हैं. किसानों के समर्थन में कई पार्टी उतर आई हैं जिसमें कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मुख्य रूप से समर्थन में है.