नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने ‘अत्यंत जरूरी विविध मामलों’ पर सुनवाई के लिए अवकाशकालीन पीठों के सामने मामलों को सूचीबद्ध करने के विषय पर एक परिपत्र जारी किया है।

न्यायालय द्वरा मंगलवार को जारी इस परिपत्र में अवकाशकालीन पीठों से संबंधित सूचनाएं हैं । ये पीठें ग्रीष्मावकाश के दौरान 26 मई से दो जून के बीच सुनवाई करेंगी।

उच्चतम न्यायालय 10 मई से 28 जून तक ग्रीष्मावकाश पर है।

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन वी रमण ने ‘‘परिवर्तित ग्रीष्मावकाश के दौरान इंसाफ की मांग को पूरा करने और अत्यंत ही जरूरी विविध मामलों’ पर सुनवाई के लिए’’ ये निर्देश जारी किये हैं।

परिपत्र के अनुसार परिवर्तित ग्रीष्मावकाश में 26 मई से दो जून तक दो खंडपीठें वीडियो काफ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई करेंगी। पहली पीठ में न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति अनिरूद्ध बोस होंगे। दूसरी पीठ में न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत 26 से 28 मई तक मामलों की सुनवाई करेंगे, उसके बाद इस पीठ में न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी न्यायमूर्ति कांत की जगह लेंगे और फिर यह परिवर्तित पीठ 29 मई से दो जून तक सुनवाई करेगी।

भाषा राजकुमार अनूप

अनूप