चुनाव आयोग ने शनिवार को 30 सितंबर को ओडिशा के एक विधानसभा क्षेत्र और पश्चिम बंगाल के तीन विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव कराने की घोषणा की, जिसमें भवानीपुर सीट भी शामिल है, जहां से मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस नेता ममता बनर्जी चुनाव लड़ सकती हैं. मतगणना 3 अक्टूबर को होगा. 

इससे ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की विधानसभा का सदस्य बनने का मौका मिलेगा. बता दें कि पश्चिम बंगाल में विधान परिषद नहीं होता है, ऐसे में मुख्यमंत्री बने रहने के लिए ममता बनर्जी को जल्द से जल्द चुनाव जीतकर विधानसभ पहुंचना था. 

यह भी पढ़ें: अंडरवियर पहने ट्रेन में टहल रहे थे JDU विधायक, सहयात्री के ऐतराज़ पर कही ये बात

ममता बनर्जी इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान नंदीग्राम सीट से चुनाव हार गई थीं. उन्होंने अपनी पारंपरिक भबनीपुर सीट छोड़कर नंदीग्राम से लड़ने का निर्णय किया था, जहां से उन्हें उनके पूर्व करीबी शुभेन्दु अधिकारी ने बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए हरा दिया था. अधिकारी अब पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता विपक्ष हैं. 

चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि उसने पश्चिम बंगाल के भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव कराने का फैसला किया है. 30 सितंबर को पश्चिम बंगाल के समसेरगंज और जंगीरपुर और ओडिशा के पिपली में भी उपचुनाव होंगे.  मतगणना 3 अक्टूबर को होगी.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर तीखा हमला, पूछा- 23 लाख करोड़ कहां गया?

आयोग ने सभी सीटों पर उपचुनाव के बजाय  पश्चिम बंगाल सरकार के विशेष अनुरोध पर भवानीपुर और अन्य दो सीटों पर उपचुनाव कराने का ऐलान किया है.  

चुनाव आयोग के प्रेस नोट में कहा गया है, "आयोग ने अभी देश के अन्य 31 विधानसभा क्षेत्रों और तीन संसदीय क्षेत्रों (भारत भर में) में उप-चुनाव नहीं कराने का फैसला किया है, जबकि संवैधानिक आवश्यकता और पश्चिम बंगाल राज्य के विशेष अनुरोध पर विचार करते हुए उसने 159-भवानीपुर एसी सीट पर उप-चुनाव कराने का निर्णय लिया है."

यह भी पढ़ें: 'बारिश आगे पीछे करने वाला ऐप', उत्तराखंड के मंत्री धन सिंह रावत का हैरान करने वाला दावा