अक्टूबर का महीना शुरू होते ही त्योहारों का सीजन भी शुरू हो रहा है. लेकिन अक्टूबर शुरू होने के साथ ही कई बदलाव भी होने वाले हैं. ये ऐसे बदलाव है जो आपकी जेब पर पड़ने वाला है. 1 अक्टूबर से Unlock-5  के साथ-साथ बैंकिंग से लेकर मोटर वाहन तक के नियमों में बदलाव हो गए हैं.

हम आपको ऐसे ही 5 बदलावों के बारे में बता रहे है जो सीधे आपकी जेब पर असर डालेंगे.

1. मुफ्त नहीं मिलेगा LPG सिलेंडर

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत मुफ्त गैस सिलेंडर 30 सितंबर 2020 से समाप्त हो गई है. ये एक सरकारी योजना थी जिसके तहत मुफ्त LPG कनेक्शन दिए जाते हैं लेकिन 1 अक्टूबर से इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा. इसके साथ ही 1 अक्टूबर से गैर सब्सिडी वाले LPG सिलेंडर और कॉमर्शियल सिलेंडरों के रेट रिवाइज होने वाले हैं.

2. मोटर वाहन नियमों में बदलाव

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने मोटर वाहन नियमों में बदलाव की जानकारी दी है. इसके मुताबिक 1 अक्टूबर से वाहन संबंधी आवश्यक डॉक्युमेंट्स वेब पोर्टल के द्वारा मेंटेन किए जा सकेंगे. इसमें लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन डॉक्युमेंट्स, फिटनेस सर्टिफिकेट, परमिट्स शामिल हैं, जिन्हें सरकार द्वारा संचालित वेब पोर्टल के द्वारा मेंटेन किया जा सकेगा. 1 अक्टूबर से आप डिजिटल कॉपी दिखाकर काम चला सकते हैं. वेब पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के सस्पेंशन, कंपाउंडिंग और रिवोकेशन समेत ई-चालान जैसे अपराधों का रिकॉर्ड भी उपलब्ध होगा.

वहीं, 1 अक्टूबर से ड्राइविंग करते वक्त मोबाइल का इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन ये इस्तेमाल रूट और मैप देखने के लिए किया जा सकता है. मोबाइल का इस्तेमाल बात करने में नहीं किया जा सकता है. अगर मोबाइल पर बात करते हुए पकड़े गए तो 1 हजार से 5 हजार तक जुर्माना लगाया जा सकता है.

3. इस तरह के ट्रांजैक्शन पर लगेगा TAX

केंद्र सरकार ने विदेश पैसे भेजने वालों पर TAX वसूलने का नया नियम बनाया है. जो 1 अक्टूबर से लागू होने जा रहा है. इसके तहत अगर आप विदेश में पढ़ रहे अपने बच्चों को पैसे भेजते हैं या किसी रिश्तेदार की आर्थिक मदद करते हैं तो उस राशि पर 5 प्रतिशत टैक्स कलेक्टेड एट सोर्स (TCS) का अलग भुगतान करना होगा. फाइनेंस एक्ट, 2020 के अनुसार, RBI की लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कील (LRS) के तहत विदेश पैसे भेजने वाले को TCTaS देना होगा.

4. हेल्थ इंश्योरेंस में बदलाव

बीमा नियामक IRDAI के नियमों के मुताबिक, हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में एक बड़ा बदलाव किया गया है. 1 अक्टूबर से मौजूदा और नए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसिज तहत किफायती दर पर अधिक बीमारियों का कवर उपलब्ध होगा. यह बदलाव हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को स्टैंडर्डाइज्ड और कस्टमर सेंट्रिक बनाने के लिए किया जा रहा है.

5. मिठाई बेचने वालों के लिए नया नियम

सरकार बाजार में बिकने वाली खुली मिठाइयों को लेकर अब सख्त हो गई है. इसलिए नए नियम बनाए गए हैं, जिसके तहत अब दुकानदारों को मिठाई के इस्तेमाल की समय सीमा बतानी होगी. उपभोक्त उसे कितनी समयसीमा तक इस्तेमाल कर सकते हैं ये दुकानदारों को बतानी होगी. खाद्य नियामक FSSI ने 1 अक्टूबर से खुली मिठाइयों पर इस्तेमाल की समय सीमा प्रदर्शित करना जरूरी कर दिया है.

(इनपुट पीटीआई से भी)