भारत में, मखाने का सेवन आमतौर पर उपवास के दौरान किया जाता है. मखानों का उपयोग कई खाद्य पदार्थों या भारतीय व्यंजनों के मीठे व्यंजनों में एक घटक के रूप में भी किया जाता है. विभिन्न व्यंजनों में एक अत्यंत लोकप्रिय सामग्री होने के अलावा, फॉक्स नट्स को एक पौष्टिक नाश्ते के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है जिसे कोई भी दिन में किसी भी समय खा सकता है. इसके अतिरिक्त, मध्ययुगीन काल से इनका उपयोग औषधीय प्रयोजनों के लिए भी किया जाता रहा है. इनमें कई सूक्ष्म पोषक तत्व भी होते हैं जो मानव शरीर के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं पर इसके साथ ही इसके कुछ नुकसान भी हैं.
यह भी पढ़ें:National Nutrition Week 2021: शरीर में विटामिन डी की कमी को पूरा करते हैं ये 5 खाद्य पदार्थ

गुर्दे की पथरी-

अगर आपको किडनी स्टोन की शिकायत है तो बहुत ही सीमित मात्रा में मखाने का सेवन करें या फिर बिलकुल न करें . दरअसल मखाने में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इसके अधिक सेवन से शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाएगी और आपकी पथरी का आकार भी बढ़ सकता है.

गैस्ट्रिक समस्या-

मखाना फाइबर और प्रोटीन से भरपूर होता है, जिस वजह से इसे पचने में ज्यादा समय लगता है. ऐसे में अगर आपको पेट से जुड़ी कोई समस्या जैसे गैस्ट्रिक या ब्लोटिंग हो रही है तो मखाने का सेवन तुरंत बंद कर दें. मखाने का सेवन आपकी परेशानी को और बढ़ा सकता है.

यह भी पढ़ें:Health Tips: भूलकर भी देर रात नहीं खाएं ये 5 चीजें, पड़ सकता है भारी

शुगर के मरीज

शुगर के मरीज जो पहले से ही इंसुलिन पर है, उन्हें मखाना खाने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

गर्भवती

वैसे तो मखाना में कई सारे फायदेमंद गुण भी हैं. गर्भवती महिलाएं बहुत अधिक हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तनों से गुजरती हैं. ऐसे में मखाने न खाने की सलाह दी जाती है. हालांकि इसके पीछे कोई वैज्ञानिक अध्ययन नहीं है.

यह भी पढ़ें: Heart को स्वस्थ रखती हैं ये 5 सब्जियां, हर दिन जरूर करें सेवन

डिस्क्लेमर:खबरों में दी गई टिप्स एक सामान्य जानकारी है. आप इसका इस्तेमाल करने से पहले विशेषज्ञों की सलाह ले सकते हैं.