टोक्यों पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में भारत की भाविना पटेल ने इतिहास रच दिया है. भाविना ने टोक्यो पैरालंपिक में भारत को पहला मेडल दिलाया है और वह भारत की ओर से टेबल टेनिस में पैरालंपिक में मेडल जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन गई हैं. अपने पहले ही पैरालंपिक में भाविना पटेल सिल्वर मेडल जीतने में सफर रही. हालांकि, वह गोल्ड जीत सकती थी लेकिन वह इससे चूक गईं.

भाविना पटेन फाइनल मैच में चीन की यिंग से भिड़ंत हुई लेकिन वह ये मैच हार गई और गोल्ड से एक कदम पीछे रह गई. लेकिन उन्होंने अपने नाम सिल्वर मेडल कर लिया है.

यह भी पढ़ेंः आज है राष्ट्रीय खेल दिवस, जानें 29 अगस्त को ही क्यों मनाया जाता है?

19 मिनट तक चले मुकाबले में भाविना पटेल वर्ल्ड नंबर वन यिंग को कड़ी टक्कर देने में कामयाब नहीं हो पाई. यिंग ने पहले गेम से ही भाविना पर दबाव बना लिया. यिंग ने पहला गेम 11-7 से अपने नाम किया. दूसरे गेम में तो यिंग का प्रदर्शन और ज्यादा शानदार रहा और उन्होंने दूसरा गेम 11-5 से अपने नाम किया. तीसरे गेम की शुरुआत में भाविना ने वापसी की कोशिश की लेकिन यिंग ने तीसरा गेम भी 11-6 से जीतकर दिखा दिया कि क्यों वो दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी हैं.

यह भी पढ़ेंः कौन हैं भाविना पटेल?

भाविना पटेल का टोक्यो पैरालंपिक में सफर बेहद ही शानदार रहा. भाविना पटेल ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया. वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 12 पर मौजूद भाविना पटेल बड़े बड़े खिलाड़ियों को मात देकर आगे बढ़ीं. प्री-क्वार्टर फाइनल में भाविना पटेल ने नंबर-8 खिलाड़ी को मात दी.

क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में तो भाविना पटेल ने कमाल कर दिया. भाविना पटेल ने क्वार्टर फाइनल में रियो पैरालंपिक की गोल्ड मेडलिस्ट और नंबर टू खिलाड़ी को मात दी.