टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में एक बाद एक खिलाड़ी भारत को मेडल दिला रहे हैं. सोमवार को अवनि लखेरा ने शूटिंग में जहां देश को पहला गोल्ड मेडल दिलाया. वहीं, योगेश कठुनिया ने डिस्कस थ्रो में सिल्वर जीतकर इतिहास रच दिया है. योगेश कठुनिया ने पैरालंपिक में डिस्क थ्रो खेल में पहला सिल्वर मेडल दिलाया है.

योगेश ने अपने छठे और अंतिम प्रयास में 44.38 मीटर चक्का फेंककर दूसरा स्थान हासिल किया. ब्राजील के बतिस्ता डोस सांतोस ने 45.59 मीटर के साथ स्वर्ण जबकि क्यूबा के लियानार्डो डियाज अलडाना (43.36 मीटर) ने कांस्य पदक जीता. योगेश पैरालंपिक खेलों में चक्का फेंक (डिस्कस थ्रो) में सिल्वर जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं.

यह भी पढ़ेंः Tokyo Paralympics: अवनि लखेरा ने शूटिंग में रचा इतिहास, भारत को दिलाया गोल्ड मेडल

योगेश कठुनिया को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बधाई देते हुए ट्वीट किया, योगेश कठुनिया का उत्कृष्ट प्रदर्शन. खुशी है कि वह रजत पदक घर ले आया. उनकी अनुकरणीय सफलता नवोदित एथलीटों को प्रेरित करेगी. उन्हें बधाई. उनके भविष्य के प्रयासों के लिए उन्हें बहुत-बहुत शुभकामनाएं.

विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता योगेश ने टोक्यो में अपने इवेंट की शुरुआत की. उनका पहला, तीसरा और चौथा प्रयास विफल रहा जबकि दूसरे और पांचवें प्रयास में उन्होंने क्रमश: 42.84 और 43.55 मीटर चक्का फेंका था. भारत का यह टोक्यो पैरालंपिक खेलों में तीसरा रजत पदक है. रविवार को महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल और ऊंची कूद के एथलीट निषाद कुमार ने रजत पदक जीते जबकि विनोद कुमार का चक्का फेंक की एफ52 स्पर्धा में कांस्य पदक अपने नाम किया.

यह भी पढ़ेंः जानें, टोक्यो पैरालंपिक में सिल्वर मेडल जीतने के बाद भाविना पटेल ने क्या कहा?

वहीं, अवनि लखेरा ने भी इतिहास रच दिया है. अवनि ने शूटिंग प्रतियोगिता में महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के क्लास SH1 में टॉप रहीं और गोल्ड मेडल जीत लिया. ये गोल्ड मेडल पैरालंपिक के इतिहास में भारत का शूटिंग में पहला स्वर्ण पदक है.

यह भी पढ़ेंः Tokyo Paralympics: निषाद कुमार ने भारत के लिए जीता दूसरा मैडल, पीएम मोदी ने दी बधाई