मॉडल, 2016 मिस इंडिया फाइनलिस्ट और अब यूपीएससी परीक्षा के पहले अटेम्प्ट में 93वां स्थान हासिल करने वाली ऐश्वर्या श्योरान के लिए ग्लैमर की दुनिया कभी भी करियर ऑप्शन नहीं था, बल्कि हमेशा से उनका लक्ष्य अकादमिक क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल करना था. जब यूपीएससी का रिजल्ट आया तब 23 वर्षीय ऐश्वर्या घर का काम करने में व्यस्त थीं.

उन्होंने Opoyi को बताया, "मैं 4 तारीख को रिजल्ट की उम्मीद नहीं कर रही थी. मुझे लगा कि रिजल्ट अगले सप्ताह आएगा, लेकिन किसी ने मेरे भाई को रिजल्ट के बारे में मैसेज किया और उसने मुझे बताया, 'दीदी आपकी 93 रैंक आई है' और मैं ये सुनकर चौंक गई. जब ये खबर आई तब मैं घर साफ करने में व्यस्त थी और ये खबर सुनकर मैं हैरान रह गई."

मॉडलिंग करियर के बारे में बात करते हुए ऐश्वर्या ने कहा, "मुझे लगता है कि मीडिया में जो कहानी चल रही है, वह यह है कि मैंने सिविल सर्विसेज में जाने के लिए मॉडलिंग से ब्रेक लिया. असल में इसका उल्टा है. मैं हमेशा से एक पढ़ाकू छात्र थी, जिसने कुछ समय के लिए पढ़ाई से ब्रेक लिया था, कॉलेज में अपने बाकी के सपनों को पूरा करने के लिए समय मिला और फिर जो भी मेरा एकमात्र उद्देश्य था उसमें वापस लग गई. लक्ष्य हमेशा से यही था, मॉडलिंग बस एक भटकाव था." ऐश्वर्या के पिता आर्मी कर्नल हैं, जबकि मां हाउसमेकर हैं.

जब से यूपीएससी के नतीजे आए हैं, ऐश्वर्या का फोन बजना बंद नहीं हुआ. ऐश्वर्या सफलता की खबर सुनकर काफी उत्साहित थी, भावनाओं के शांत होने पर उन्होंने बताया कि वह लोगों की सेवा करना चाहती हैं. ऐश्वर्या ने कहा, "यह मेरे लिए सपना सच होने जैसा है. मैं हमेशा सिविल सर्विसेज में जाना चाहती थी, जहां मैं वास्तव में लोगों की मदद कर सकूं और समाज में योगदान दे सकूं और अब वह सपना पूरा होने जा रहा है, इसलिए मेरा पूरा परिवार खुश है, उन्हें मुझ पर गर्व है."

ऐश्वर्या को इस बात की बहुत खुशी है कि उनकी कहानी कई लोगों को प्रेरित कर रही है. ऐश्वर्या ने कहा, "आप जानते हैं मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं कि मुझे इतना प्यार और प्रशंसा मिल रही है और लोग इसे जिस तरह से ले रहे हैं. ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपनी सीमाओं से लांघकर अलग-अलग चीजों को आजमाने के लिए प्रेरित हो रहे हैं. उनके परिवार के लोग भी अब उनका साथ देंगे. मुझे लगता है कि समर्पण से आप सब कुछ हासिल कर सकते हैं, इसलिए मुझे लगता है कि अगर मेरी कहानी इस विशेष संदेश को फैला रही है तो मैं क्लॉउड नाइन पर हूं क्योंकि यही तो मेरा विचार है. फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां से आते हैं जबतक कि आप अपने रास्ते पर हैं, जबतक कि आप याद रखते हैं कि आपके सिद्धांत क्या हैं. मेरी ही तरह आप भी जो चाहते हैं वो हासिल कर सकते हैं."

मूल रूप से राजस्थान की रहने वाली ऐश्वर्या ने अपने माता-पिता को भी धन्यवाद दिया. ऐश्वर्या ने कहा, "मेरे सभी शो में मेरे माता-पिता सामने की पंक्ति में बैठते थे. उनको देखते थे, उन्हें रिकॉर्ड करते थे और वे मुझ पर गर्व करते थे. ये मेरी यात्रा रही है. जब मेरे पिता दो साल पहले मुंबई में तैनात थे, तब मुझे लगा कि मैं अब तैयारी कर सकती हूं क्योंकि मेरा ग्रेजुएशन पूरा हो चुका है और मैं सिविल सेवा के लिए एलिजिबल हूं. मैंने तैयारी शुरू की और एक साल में ही क्लियर कर लिया."

ऐश्वर्या ने कहा कि लड़कियां सभी क्षेत्रों में अच्छा कर रही हैं और अब ये समय है कि हम सिर्फ उन्हें उनकी खूबसूरती से न परखें. ऐश्वर्या ने आगे कहा, "सुंदरता वह नहीं है जो आप बाहर से देखते हैं ... एक बुद्धिमान दिमाग और अच्छे और साफ दिल से सुंदर कुछ नहीं हो सकता. मुझे लगता है कि यदि आपके पास यह है तो कोई भी सुंदर हो सकता है. इस पूरे मिथक को तोड़ना होगा. मुझे लगता है कि यह समय है जब हम किसी पुस्तक को उसके आवरण से आंकना बंद करें."