कुआलालंपुर, 25 मई (एपी) मलेशिया के परिवहन मंत्री वी का सियोंग ने मंगलवार को कहा कि कुआलालंपुर में एक सुरंग के भीतर दो लाइट रेल ट्रेनों (मेट्रो एवं ट्राम की विशेषता वाली ट्रेन) के बीच हुई टक्कर की घटना एक ट्रेन के चालक की लापरवाही के कारण हुई।

इस घटना में 200 से ज्यादा लोग घायल हो गये थे।

मेट्रो ट्रेन देश के सबसे ऊंचे ट्विन टावरों में से एक पेट्रोनास टॉवर्स के पास सुरंग के भीतर परीक्षण के लिए चलाई गई खाली गाड़ी से टकरा गई। ट्रेन में 213 यात्री सवार थे। यह हादसा 23 साल पुरानी मेट्रो प्रणाली का सबसे बड़ा हादसा है।

सियोंग ने कहा कि खाली ट्रेन का चालक गलत रास्ते पर जा रहा था।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रारंभिक जांच में पाया गया कि दुर्घटना ट्रेन चालक की लापरवाही के कारण हुई ... जो गलत दिशा में ट्रेन चला रहा था।’’

उन्होंने बताया कि मंगलवार को 21 लोग अस्पताल में भर्ती है जिनमें से छह की हालत गंभीर बनी हुई है और तीन वेंटिलेटर पर है। मामूली रूप से घायलों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है।

उन्होंने कहा, “एक गाड़ी 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से जा रही थी और दूसरी गाड़ी करीब 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी, जब यह टक्कर हुई। भीषण झटका लगने की वजह से कुछ यात्री अपनी सीट से बाहर गिर गए।’’

सोमवार रात हुई टक्कर की सोशल मीडिया पर प्रसारित तस्वीरों में खून से लथपथ यात्री दिख रहे हैं और चारों तरफ शीशे टूट कर बिखरे हुए हैं।

प्रधानमंत्री मुहिद्दीन यासीन ने हादसे की संपूर्ण जांच कराने को कहा है।

इससे पूर्व पुलिस ने कहा था कि उन्हें संदेह है कि ट्रेनों के परिचालन नियंत्रण केंद्र से कुछ गलत सूचना दी गई।

दुर्घटना से कुआलालंपुर और आस-पास के क्षेत्रों को जोड़ने वाली तीन लाइट रेल लाइनों में से एक प्रभावित हुई है। सरकारी स्वामित्व वाली मेट्रो प्रणाली की मालिक कंपनी प्रसारण मलेशिया बेरहद ने कहा कि ट्रेन सेवाएं मंगलवार से फिर से शुरू हो गईं।