मुंबई 22 मई (भाषा) कोविड-19 संकट के बीच ट्रेवल एजेंट संघ टीएएआई ने सरकार से ऋण चुकौती पर रोक, वित्तीय सहायता और उद्योग के लिए पांच साल तक आयकर में छूट जैसे राहत उपायों की गुहार लगाई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे खुले पत्र में ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (टीएएआई) ने शनिवार को कहा कि ऋण और कर्मचारियों के लिए बढ़े हुए बीमे प्रीमियम के कारण यात्रा और पर्यटन व्यापार सबसे अधिक प्रभावित हुआ हैं।

उसने कहा कि टीएएआई के सदस्य महामारी से पहले के व्यापार के मुकाबले पिछले 14 महीनों में पांच प्रतिशत भी व्यापार नहीं कर सके। इसके कारण व्यापार के मूलभूत अस्तित्व को भी बचाये रखना एक चुनौती बन गया है।

टीएएआई ने कहा, ‘‘हमारे सदस्य अपने कर्मचारियों को कुछ और महीने तक नौकरी पर बनाये रखने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। लेकिन कोरोना महामारी की दूसरी और तीसरी लहर से उत्पन्न हुई स्थिति ने हमें आपका मार्गदर्शन, सहायता और प्रोत्साहन लेने के लिए मजबूर कर दिया है ताकि व्यापार में काम करने वाले कर्मियों की आजीविका की देखभाल की जा सके।’’

संघ ने कहा कि वह सरकार से दान के रूप में सहायता करने की मांग नहीं कर रहे। उसने कहा, ‘‘ हम ऋण चुकाने में सरकार से सर्मथन की उम्मीद कर रहे हैं। हम चाहते है कि यह संकट समाप्त होने के बाद पांच साल की अवधि के बाद सरकार को ऋण वापस लेना चाहिए। यह अस्तित्व बनाये रखने और पुनरुद्धार के लिए केवल अंतरिम पूंजी के रूप में होगी।’’

भाषा जतिन माधव

माधव