जयपुर, 26 मई (भाषा) भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के एक दल ने बुधवार को बीकानेर के गंगाशहर के राजकीय चिकित्सालय के लैब टैक्निशियन और रक्त का नमूना लेने वाले (प्राईवेट व्यक्ति) को 1600 रूपये की रिश्वत राशि लेते रंगें हाथो गिरफ्तार किया है।

ब्यूरो के महानिदेशक भगवान लाल सोनी ने एक बयान में बताया कि परिवादी ने ब्यूरो में शिकायत दी कि आरटीपीसीआर कोरोना जांच के लिये सैम्पल लेकर सरकारी जांच रिपोर्ट उपलब्ध करवाने की एवज में प्रति जांच 800 रूपये के हिसाब से गंगाशहर के राजकीय चिकित्सालय के लैब टैक्निशियन आरोपी रविन्द्र उपाध्याय और वी केयर लैब के रक्त नमूना लेने वाला आरोपी दीपक गहलोत (प्राईवेट व्यक्ति) द्वारा अवैध रूप से वसूल किये जा रहे है।

उन्होंने बताया कि ब्यूरो कार्मिको को बोगस ग्राहक बना कर कोरोना की जांच करवाई गई, और इसके एवज में 1600 रूपये रिश्वत राशि लेते हुए आरोपी रविन्द्र उपाध्याय और दीपक गहलोत को रंगें हाथ गिरफ्तार किया हैं।

उन्होंने बताया कि आरोपियों के निवास एवं अन्य ठिकानों की तलाशी जारी है। आरोपियों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।