केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने शुक्रवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और अभिनेत्री कंगना रनौत के लिए 'न्याय' और मुआवजे का अनुरोध किया.

नगर निकाय ने कंगना के मुंबई स्थित कार्यालय को बुधवार को आंशिक रूप से तोड़ दिया था. आठवले ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल से कहा कि कंगना को नोटिस जारी किया गया था और उसके 24 घंटे के भीतर ही शिवसेना द्वारा नियंत्रित बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने बुधवार को कार्रवाई की जबकि कंगना शहर में नहीं थीं. सामाजिक न्याय राज्य मंत्री ने एक दिन पहले कंगना से खार स्थित उनके आवास पर मुलाकात की थी और उनसे कहा था कि शहर में उन्हें डरने की जरूरत नहीं है.

आठवले ने राज्यपाल से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, 'मैंने राज्यपाल के साथ (राजभवन में) 20-25 मिनट तक चर्चा की. हमने कंगना रनौत से जुड़े मुद्दे पर चर्चा की. उनके साथ अन्याय हुआ है.' आठवले ने आरोप लगाया कि बीएमसी ने कार्रवाई के दौरान कंगना के कार्यालय में फर्नीचर को भी तोड़ दिया. उन्होंने नगर निकाय पर अपनी शक्तियों के दुरुपयोग करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने राज्यपाल से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि कंगना को न्याय और मुआवजा मिले.'