उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव साल 2022 में होने हैं. अगर वर्तमान की बात करें तो उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार है. बीजेपी ने साल 2017 में हुए विधानसभा के चुनावों में कुल 403 सीटों में से 312 सीटें जीती थीं. जबकि सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी गठबंधन को 54 सीटें और बहुजन समाज पार्टी को 19 सीटों प्राप्त हुईं थीं. साल 2017 में उत्तर प्रदेश की सत्रहवीं विधानसभा के लिए 11 फरवरी से 8 मार्च 2017 तक सात चरणों में चुनाव हुए थे. 

यह भी पढ़ेः UP Election 2022: नोएडा विधानसभा सीट, जिसे कहा जाता है यूपी की सबसे बदकिस्मत सीट

अब बात करते हैं गौतमबुद्ध नगर जिले के अंदर आने वाली 3 सीटों में से एक, जेवर विधानसभा सीट की. 

पिछले चुनावों में किसकी हुई थी जीत 

साल 2017 के चुनाव में जेवर विधानसभा सीट पर बीजेपी की जीत हुई थी. इस पर कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए धीमेंद्र सिंह विजयी हुए थे. धीमेंद्र सिंह को लगभग 20 हजार वोटों से जीत मिली थी.  बीजेपी के प्रत्याशी को जेवर की जनता से 102,979 वोट प्राप्त हुए वहीं दूसरे नंबर पर रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के वेदराम भाटी को 80,806  वोट मिले थे. 

यह भी पढ़ेंः UP Election 2022: मुरादनगर विधानसभा सीट का पूरा राजनीतिक गणित समझें

वहीं अगर साल 2012 की बात करें तो इस सीट पर बीएसपी के वेदराम भाटी को 67,524 वोटों के साथ जीत मिली थी. इसके साथ ही उस समय कांग्रेस की ओर से खड़े हुए धीमेंद्र सिंह को हार का सामना करना पड़ा था. 

गुर्जर और मुस्लिम ही चुनते हैं विधायक 

इस सीट पर जातीय समीकरण की बात करें तो यहां सबसे गुर्जर और मुस्लिम मतदाता सबसे अधिक संख्या में हैं. साल 2017 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी के धीमेंद्र सिंह को गुर्जर और मुस्लिम समुदाय ने भी उन्हें काफी सख्यां में वोट दिया था, तब ही जाकर उनको जीत प्राप्त हुई थी. इस सीट पर दलित मतदाता भी अच्छी खासी संख्या में मौजूद हैं. 

UP Election 2022: साहिबाबाद विधानसभा सीट पर पिछली बार बना था रिकॉर्ड, इस बार कौन मारेगा बाजी?