उत्तर प्रदेश की राजनीति सभी दलों के लिए काफी अहम होती है. साल 2022 में यूपी विधानसभा के चुनाव होंगे. जिसके लिए सभी दल तैयारियों में जुट गए हैं. पार्टियों में सीट के बंटवारे को लेकर बहस छिड़ गई है. चुनावों के लिए नेता लगातार अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं. देखने वाली बात यह होगी की यूपी की 18वीं विधानसभा कौन सी पार्टी को जीत के लड्डू बांटने का मौका देगी, वहीं किस पार्टी के हाथ लगेगी मायूसी. अब यूपी के मेरठ जिले की किठौर विधानसभा सीट की. 

यह भी पढ़ेंः UP Election 2022: क्या सपा अपने गढ़ इटावा विधानसभा सीट पर मिली हार का बदला ले पाएंगी

एक परिवार जिसने सालों तक किया शासन 

साल 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले इस सीट पर 15 साल तक सपा के विधायक शाहिद मंजूर ने राज किया था. अखिलेश सरकार में मिनिस्टर होने के साथ-साथ वेस्ट यूपी की राजनीति में उनका दबदबा काफी हुआ करता था. शाहिद मंजूर के साथ-साथ उनके पिता मंजूर अहमद भी किठौर विधानसभा सीट पर राज कर चुके हैं. किठौर की जनता ने इस परिवार पर काफी समय तक अपना भरोसा बनाए रखा था. 

यह भी पढ़ेंः UP Election 2022: अलीगढ़ विधानसभा सीट पर कौन सा दल मारेगा बाजी

किठौर विधानसभा के चुनाव

साल 2017 के विधानसभा चुनाव में किठौर सीट पर बीजेपी ने सपा के जीत के सिलसिले को तोड़कर जीत हासिल की थी. इस सीट पर बीजेपी के प्रत्याशी सत्यवीर त्यागी को 10,800 वोटों से जीत प्राप्त हुई थी. किठौर विधानसभा सीट पर, सत्यवीर त्यागी को कुल 89,817 वोट मिले थे वहीं पूर्व विधायक, शाहिद मंजूर 79,017 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे. 

वहीं अगर 2012 के विधानसभा के चुनाव की बात करें तो इस सीट पर सपा के शाहिद मंजूर को लगातार तीसरी बार जीत प्राप्त हुई थी. 

यह भी पढ़ेंः UP Election 2022: खैर विधानसभा सीट पर सपा को कभी नहीं मिली जीत

जातीय समीकरण

इस सीट पर ज्यादातर त्यागी, मुस्लिम और गुर्जर ही जीत तय करते हैं. किठौर विधानसभा सीट पर सबसे ज्यादा 70,000 मुस्लिम मतदाता हैं. वहीं 30,000 गुर्जर और 30,000 ही त्यागी मतदाता हैं. 

यह भी पढ़ेंः UP Election 2022: शाहाबाद विधानसभा सीट पर BJP और SP में होती है कड़ी टक्कर