अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश), 28 अप्रैल (भाषा) अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) स्थित जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मरीजों को दी जाने वाली ऑक्सीजन की किल्लत पैदा होने के बाद बुधवार दोपहर इसकी आपूर्ति हो गई।

मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी ने बुधवार को 'पीटीआई-भाषा' को बताया 'अस्पताल को पिछले चार दिनों से एक भी ऑक्सीजन सिलिंडर नहीं मिला है और अब हम अपने लिक्विड ऑक्सीजन उत्पादन के तीन संयंत्रों पर पूरी तरह निर्भर हैं। उनमें से दो में ऑक्सीजन बनाने के लिए कच्चे माल की आपूर्ति का इंतजार है।'

हालांकि बाद में उन्होंने बताया कि दोपहर बाद अस्पताल को एक ट्रक लिक्विड ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई। अब अस्पताल को और 48 घंटे के लिए अपने दो ऑक्सीजन प्लांट चलाने के वास्ते जरूरी सामग्री मिल गई है।

सिद्दीकी ने बताया कि जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 273 ऐसे मरीज भर्ती हैं जिन्हें ऑक्सीजन की आवश्यकता है। उनमें से 63 कोविड-19 संक्रमित हैं और 140 में इस संक्रमण के लक्षण मौजूद हैं। बाकी बचे 70 मरीज गैर कोविड मरीज भी गंभीर हालत में भर्ती हैं और उन्हें भी आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन दी जा रही है।

सिद्दीकी ने बताया कि तीसरा ऑक्सीजन प्लांट विश्वविद्यालय के पुराने भवन में स्थित है जहां चौबीसों घंटे ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है।

इस बीच, एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने बुधवार को कहा कि विश्वविद्यालय अगले 30 दिन में एक नया ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित करेगा। यह नया प्लांट ऑक्सीजन सिलिंडर को रिफिल करने का काम भी करेगा।

इधर, अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम ने संवाददाताओं को बताया कि उनकी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से टेलीफोन पर बात हुई है और उन्होंने आश्वासन दिया है कि बोकारो से ऑक्सीजन लदे ट्रक रवाना हो चुके हैं जिनसे अलीगढ़, मथुरा तथा आगरा में ऑक्सीजन की जरूरतों को पूरा किया जाएगा।

सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि ऑक्सीजन की किल्लत को जल्द खत्म कर दिया जाएगा।

भाषा सं सलीम

जोहेब

जोहेब