उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav 2021) में गौतम बुद्ध नगर (NOIDA)में महिलाओं ने इतिहास रच दिया है. नोएडा में हुए ग्राम पंचायत की 88 सीटों में से 40 पर महिलाओं ने जीत हासिल कर इतिहास रच दिया है. दो दिन पूर्व संपन्न हुए ग्राम पंचायत चुनाव में गौतम बुद्ध नगर में महिलाओं के लिए 30 फ़ीसदी ग्राम पंचायतों में पद आरक्षित था लेकिन महिलाओं ने 44 फीसदी ग्राम पंचायतों पर कब्जा किया है.

यह भी पढ़ेंः UP Jila Panchayat Sadasya Salary: कितनी होती है जिला पंचायत सदस्य की सैलरी?

पीटीआई के मुताबिक, जिले की करीब आधी पंचायतों में महिलाएं ग्राम प्रधान निर्वाचित हुई हैं. इनमें से 15 ग्राम प्रधान वे महिलाएं हैं जिनके प्रतिद्ंवद्वी पुरुष थे. सबसे ज्यादा दादरी विकासखंड में 17 महिलाएं ग्राम प्रधान बनी हैं. बिसरख में 12 महिलाएं ग्राम प्रधान का चुनाव जीती हैं, जबकि जेवर क्षेत्र में 11 पंचायतों में महिलाओं ने अपना परचम लहराया है.

यह भी पढ़ेंः  UP Panchayat Election result: यूपी पंचायत चुनाव का रिजल्ट कहां देखे

जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने गौतम बुद्ध नगर की 88 विजयी ग्राम पंचायत प्रधानों की सूची जारी की.

बिसरख प्रखंड में ग्राम पंचायतों की संख्या 24 है. 30 फीसदी आरक्षण की बदौलत आठ ग्राम पंचायतों में प्रधान पद महिलाओं के लिए आरक्षित थे. इन आठ ग्राम पंचायतों के अलावा बिसरख में चार ऐसी ग्राम पंचायतें हैं जहां महिलाओं ने पुरुषों को हराकर प्रधान पदों पर कब्जा किया.

यह भी पढ़ेंः UP Block Pramukh Salary: कितनी होती है ब्लॉक प्रमुख की सैलरी?

दादरी प्रखंड में 30 ग्राम पंचायतें हैं जिनमें से 17 ग्राम पंचायतों पर महिलाओं का राज चलेगा. जिले के जेवर विकासखंड में सबसे ज्यादा 34 ग्राम पंचायत हैं. लेकिन दादरी और बिसरख की तुलना में यहां महिला ग्राम प्रधानों की संख्या कम रह गई है. जेवर में 11 ग्राम पंचायतें महिलाओं के लिए आरक्षित थी.

शिक्षा के लिहाज से गौतम बुद्ध नगर में जीते ग्राम प्रधानों में से केवल छह प्रधान ऐसे हैं जिन्होंने स्नातक तक की पढ़ाई की है जबकि 11 प्रधान अशिक्षित हैं. 19 ग्राम प्रधानों को केवल प्राथमिक शिक्षा प्राप्त है और नौ प्रधान आठवीं तक पढ़े हैं. बाकी 48 फ़ीसदी ग्राम प्रधान 10वीं और 12वीं पास हैं.

UP Panchayt Chunav Result 2021: सैफई में आजादी के बाद प्रधान पद पर पहली बार बदला इतिहास

जिले के गांवो का शहरीकरण होने की वजह से ग्राम पंचायतों की संख्या 243 से घटकर मात्र 88 रह गई है.