उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) में गलत उम्मीदवार की जीत की घोषणा करने का मामला सामने आया है, जिसके बाद बड़ी कार्रवाई की गई है. पंचायत चुनाव मे धोखाधड़ी करने के आरोप में अतिरिक्त निर्वाचन अधिकारी (ARO) के रूप में तैनात सरकारी इंजीनियर के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है. इंजीनियर पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर हारे हुये उम्मीदवार को विजयी होने का प्रमाण पत्र दे दिया था.

यह भी पढेंः लॉकडाउन में रेलवे ने कर दीं 28 ट्रेने रद्द, देखें कैंसल ट्रेनों की पूरी लिस्ट

पीटीआई के मुताबिक, गोरखपुर जिले में जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में पराजित घोषित किए गए दो उम्मीदवारों के समर्थकों ने प्रशासन पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए नई बाजार पुलिस चौकी में आग लगा दी थी. इन उम्मीदवारों का आरोप था कि अधिकारी ने धोखाधड़ी करके उन्हें विजयी घोषित नहीं किया.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि निर्वाचन अधिकारी सुनील कुमार की शिकायत पर अतिरिक्त निर्वाचन अधिकारी वीरेंद्र कुमार के खिलाफ धोखाधड़ी, बेईमानी और हेराफेरी का मामला दर्ज किया गया है.

मंगलवार को मतगणना के बाद वार्ड संख्या 60 से जिला पंचायत सदस्य के उम्मीदवार रवि निषाद और वार्ड संख्या 64 से इसी पद के उम्मीदवार कोडई निषाद ने दावा किया कि उन्होंने दो हजार से ज्यादा मतों से जीत दर्ज की है, लेकिन प्रशासन उन्हें जीत का प्रमाण पत्र नहीं दे रहा है.

यह भी पढ़ें-बीजेपी या समाजवादी पार्टी: जानें यूपी पंचायत चुनाव में किसने मारी बाजी

इन दोनों प्रत्याशियों ने आरोप लगाया था कि बुधवार सुबह वार्ड संख्या 60 पर गोपाल यादव और 64 पर गब्बर यादव नामक प्रत्याशियों को विजयी घोषित करके उन्हें प्रमाण पत्र भी दे दिया गया.

पुलिस के अनुसार इससे नाराज रवि निषाद और कोडई निषाद बुधवार को अपने समर्थकों के साथ ब्रह्मपुर विकास खंड कार्यालय पहुंचे और अधिकारियों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया. इस दौरान प्रदर्शनकारी नई बाजार पुलिस चौकी पहुंच गए और पुलिस तथा प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की.

उग्र भीड़ ने पुलिस चौकी पर पथराव किया और उसमें आग लगा दी थी. इस दौरान चौकी परिसर में मौजूद पुलिसकर्मियों ने किसी तरह अपनी जान बचाई थी.

इस मामले को संज्ञान में लेते हुये जिलाधिकारी विजयेंद्र पांडियन ने बृहस्पितवार को प्रत्येक बूथ के वोटो की गिनती कराई और रवि और कोडई को विजयी घोषित किया.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली आने वाले इन राज्यों के लोगों को रहना होगा 14 दिन क्वारंटीन, केजरीवाल सरकार ने दिए निर्देश

जिलाधिकारी ने बताया कि अतिरिक्त निर्वाचन अधिकारी वीरेंद्र कुमार के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है. कुमार सिंचाई विभाग में इंजीनियर के पद पर तैनात है, राज्य निर्वाचन आयोग को उनके खिलाफ कार्यवाही करने के लिये पत्र भी लिखा गया है.

इस बीच पुलिस चौकी को आग लगाने तथा पथराव करने के मामले में चार अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज कर 18 लोगो को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में 60 नामजद तथा 500 अज्ञात लोगों के खिलाफ चार मामले दर्ज किए गए हैं.

उन्होंने बताया कि मामलों में 18 लोगो को गिरफ्तार किया गया है तथा अन्य की तलाश की जा रही है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी दिनेश कुमार ने बताया कि आगजनी और तोड़-फोड़ शामिल लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी.

ये भी पढ़ेंः UP BDC Salary: कितनी होती है क्षेत्र पंचायत सदस्य की सैलरी?

ये भी पढ़ेंः UP Block Pramukh Salary: कितनी होती है ब्लॉक प्रमुख की सैलरी