देश के उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने 2 मई (रविवार) को उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव की मतगणना पर रोक लगाने या फिर तारीख को आगे बढ़ाने से इंकार कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देनजर मतगणना पर रोक लगाने की याचिका दायर की गई थी, जिस पर आज सुनवाई थी. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतगणना 2 मई को ही होगी, ऐसा सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है.

यह भी पढ़ें- UP के 7 जिलों में शुरु हुआ 18+ वालों का वैक्सीनेशन, CM योगी आदित्यनाथ ने की शुरुआत

ANI के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने यूपी पंचायत पोल्स में चुनाव आयोग के आश्नासन के बाद मतगणना की इजाजात दे दी है. 829 मतगणना सेंटर्स पर कोविड-19 के प्रोटोकॉल्स को मानते हुए मतगणना होगी.

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राज्य चुनाव आयोग से कहा कि वह मतगणना केंद्रों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कराने की जिम्मेदारी राजपत्रित अधिकारियों को सौंपेगा. न्यायालय ने राज्य निर्वाचन आयोग को प्रदेश में मतगणना केंद्रों के सीसीटीवी फुटेज को तब तक सुरक्षित रखने का निर्देश दिया, जब तक कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय उसके समक्ष दायर याचिकाओं पर सुनवाई पूरी नहीं कर लेता. साथ ही राज्य में मतगणना के बाद जीत का जश्न बिल्कुल नहीं मनाया जाए, इसके भी सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिए हैं.

यह भी पढ़ेंः कोरोना से पीड़ित 86 साल की बुजुर्ग ने डॉक्टरों के कथन को गलत साबित कर दिया

यह भी पढ़ें- भारत में कोरोना: पिछले 24 घंटों में आए 4 लाख से ज्यादा नए केस, जानें ताजा आंकड़े