राज्य सभा में जब आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव पेगासस जासूसी कांड पर बयान देने के लिए खड़े हुए तो उनके हाथ से स्टेटमेंट का पेपर छीनकर तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सांसद ने फाड़ दिया. सांसद शांतनु सेन ने पेपर को फाड़कर उपसभापति की तरफ उछाल दिया. राजयसभा की कार्रवाई रद्द कर दी गई. 

इस मुद्दे पर बयान देने के लिए जैसे ही वैष्णव खड़े हुए टीएमसी और विपक्षी दल के अन्य सदस्य सदन के वेल में पहुंच गए. 

यह भी पढ़ेंः आपका फोन Pegasus स्पाईवेयर का शिकार तो नहीं? यहां जानें कैसे पता चलेगा

सांसदों ने नारेबाजी की और कागजात फाड़ दिए जो उस बयान की प्रतियां थी जिसको मंत्री पढ़ने वाले थे. कागज हवा में उछाले जाने के कारण मंत्री अपना वक्तव्य पूरा नहीं कर सके और उन्होंने इसकी एक प्रति सदन के पटल पर रख दी.

उपसभापति हरिवंश ने सदन की कार्यवाही को शेष दिन के लिए स्थगित करने से पहले सदस्यों से असंसदीय व्यवहार करने से बचने को कहा. 

विपक्षी सांसदों ने दिन के पहले भाग में भी संसद की कार्यवाही को रोक दिया था. सांसदों ने कथित जासूसी और अन्य मुद्दों पर नारेबाजी की. 

इसके बाद बीजेपी सांसद आगे बढ़े और केंद्रीय हरदीप सिंह पुरी ने नाराजगी जाहिर की. इसके बाद सदन कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया. सदन के स्थगन के बाद, सांसद शांतनु सेन द्वारा मंत्री से कागजात छीनने और उसे फाड़ने को लेकर बीजेपी सांसदों और TMC सांसदों के बीच बहस हुई. स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए मार्शलों ने हस्तक्षेप किया.  

पेगासस जासूसी के आरोपों पर संचार मंत्री ने अपने बयान में कहा कि सभी संबंधित पक्षों ने पहले ही जारी रिपोर्ट का खंडन कर दिया है. मैं सभी सदस्यों से विस्तृत रिपोर्ट पढ़ने का अनुरोध करता हूं.

यह भी पढ़ेंः क्या है पेगासस स्पाईवेयर? आसान भाषा में समझिए