दुबई, 28 अप्रैल (एपी) अमेरिकी नौसेना ने बुधवार को कहा कि फारस की खाड़ी में गश्त के दौरान ईरान के अर्धसैनिक रिवोल्यूशनरी गार्ड के जहाजों के उसके युद्धपोत के बेहद करीब आ जाने पर उसने चेतावनी देने के लिये गोलियां चलाई। करीब चार वर्षों के दौरान गोलीबारी की यह पहली घटना है।

नौसेना ने कुवैत, ईरान, ईराक और सऊदी अरब के निकट फारस की खाड़ी के उत्तरी क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय समुद्र में सोमवार रात हुई इस मुठभेड़ की श्वेत-श्याम फुटेज जारी की। फुटेज में दूर से रोशनी देखी जा सकती है और एक गोली चलाए जाने की आवाज सुनी जा सकती है

ईरान की तरफ से इस घटना को लेकर कोई प्रतिक्रिया फिलहाल नहीं आई है।

अमेरिकी नौसेना ने कहा कि साइक्लोन श्रेणी का गश्ती पोत ‘यूएसएस फायरबोल्ट’ ने उसके और अमेरिकी तटरक्षक गश्ती नौका यूएसएससीजी बेरनऑफ के 68 गज (62 मीटर) की दूरी तक तीन त्वरित हमला करने में सक्षम ईरानी जहाजों के आने पर चेतावनी स्वरूप गोलियां चलाई।

पश्चिम एशिया में स्थित पांचवें बेडे की प्रवक्ता कोमोडोर रेबेका रेबारिच ने कहा, “अमेरिकी चालक दल ने ब्रिज-टू-ब्रिज रेडियो और शोर मचाने वाले उपकरणों से कई बार चेतावनी जारी की लेकिन (गार्ड की) नौकाएं बेहद करीब मंडराती रहीं।”

उन्होंने कहा, “इसके बाद फायरबोल्ट के चालक दल के सदस्यों ने चेतावनी देते हुए गोलियां चलाई और फिर उनके जहाज अमेरिकी जहाजों से दूर चले गए।”

उन्होंने गार्ड का आह्वान किया कि “अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत जरूरी सभी पोतों की सुरक्षा का सम्मान कर संचानल करें।”

उन्होंने कहा, “अमेरिकी नौसेना लगातार सतर्क है और पेशेवर तरीके से कार्रवाई के लिये प्रशिक्षित हैं, जबकि हमारे कमांडिंग अधिकारी आत्मरक्षा में कार्रवाई करने का अधिकार रखते हैं।”

एपी

प्रशांत अविनाश

अविनाश