बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक खत लिखा है, जिसमें किसानों को राहत देने को लेकर कुछ मांग की गई है. लेकिन कहा जा रहा है कि इससे योगी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती है. दरअसल, वरुण गांधी ने अपने खत में सीएम से अपील करते हुए लिखा है कि, किसानों के लिए गन्ने की कीमतों में अच्छी वृद्धि की जाए, गेहूं और धान की फसल पर बोनस दिया जाए और पीएम किसान योजाना में मिलने वाली राशि को दोगुना कर दिया जाए. इसके अलावा डीजल पर सब्सिडी देने की भी मांग की गई है.

जाहिर है कि वरुण गांधी की किसानों को लेकर इन मांगों से किसानों को खुश जरूर किया जा सकता है. लेकिन इससे योगी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती है. ऐसा भी माना जा रहा है कि वरुण गांधी के खत के सहारे विपक्ष और किसान संगठन भी योगी सरकार पर इन मांगों के लिए दबाव बढ़ा सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड में चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका, पुरोला MLA राजकुमार ने की बीजेपी में वापसी

पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी ने सीएम योगी के नाम दो पन्नों का खत लिखा है. इसमें किसानों की सभी समस्याओं और उनकी मांगों का जिक्र किया गया है. वरुण ने किसानों की समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ उपाय भी सुझाए हैं.

यह भी पढ़ेःं राहुल गांधी का Sunday Thoughts, 'नौकरी ही नहीं है तो क्या रविवार, क्या सोमवार!'

वरुण गांधी ने सरकार को सलाह दी है कि गन्ने का मूल्य 400 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया जाए, जोकि अभी 315 रुपए प्रति क्विंटल है. गन्ना मुख्यतौर पर पश्चिमी यूपी में उगाया जाता है, जो केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का केंद्र भी है.

वरुण गांधी ने ये भी कहा है कि किसानों को गेहूं और धान पर 200 रुपए प्रति क्विंटल की दर से एमएसपी पर अतिरिक्त बोनस मिलना चाहिए. उन्होंने यह भी मांग रखी है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत मिलने वाली राशि को 6 हजार से बढ़ाकर 12 हजार रुपए कर दिया जाए.

किसानों की समस्याएं गिनाते हुए वरुण गांधी ने बिजली और डीजल की ऊंची कीमत का जिक्र किया. उन्होंने यूपी के सीएम से अपील की है कि किसानों को डीजल पर प्रति लीटर 20 रुपए की सब्सिडी दी जाए और बिजली की कीमत कर दी जाए.

यह भी पढ़ेंः गुजरात में बीजेपी को चाहिए लाइम लाइट वाला सीएम चेहरा? विजय रुपाणी की यही थी सियासी कमजोरी

वरुण गांधी ने योगी आदित्यनाथ के सामने ये मांगें ऐसे समय पर रखी हैं, जब अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने जा रहा है तो 5 सितंबर को कई किसान संगठनों ने मुजफ्फरनगर में महापंचायत की है. ऐसे में विपक्ष और किसान संगठन भी इन मांगों को लेकर सीएम योगी पर दबाव बढ़ा सकते हैं.