अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) में बुधवार को अपने समर्थकों द्वारा की गई हिंसा की निंदा की और कहा कि वे अमेरिका का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं. इसके साथ ही ट्रंप ने संकल्प लिया कि वह नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को सत्ता का व्यवस्थित और सुगम हस्तांतरण सुनिश्चित करेंगे. ट्रंप ने एक नए वीडियो संदेश में कहा कि अमेरिका कानून-व्यवस्था का पालन करने वाला देश है और रहेगा.

व्हाइट हाउस ने गुरुवार को ट्रंप का यह वीडियो जारी किया. इसे यूट्यूब पर पोस्ट किया गया है. इसमें ट्रंप कहते नजर आ रहे हैं, ‘‘सभी अमेरिकी लोगों की तरह, मैं भी हिंसा, अराजकता और उत्पात से हैरान और दुखी हूं. भवन की सुरक्षा तथा घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए मैंने तुरंत ही राष्ट्रीय गार्ड और संघीय कानून प्रवर्तन एजेंसी की तैनाती की.’’

इसमें उन्होंने कहा कि कैपिटल में घुसने वाले प्रदर्शनकारियों ने अमेरिका के लोकतंत्र के मंदिर को अपवित्र किया है. उन्होंने कहा, ‘‘हिंसा और विनाशकारी गतिविधियों में लिप्त लोग हमारे देश का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं. जिन्होंने कानून तोड़ा, उन्हें इसका खामियाजा भुगतना होगा. हम अभी हाल में एक चुनाव से गुजरे हैं और लोगों की भावनाएं उफान पर हैं लेकिन अब अपने गुस्से को ठंडा करना होगा तथा अमन बहाल करना होगा.’’

अमेरिका में लोकतंत्र पर एक अप्रत्याशित हमले में, बुधवार को निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हजारों समर्थकों ने वाशिंगटन डीसी स्थित कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) पर हमला किया और पुलिस के साथ भी उनकी झड़प हुई थी. इसमें चार लोगों की जान चली गई थी. इस दौरान ट्रंप समर्थकों ने संसद के संयुक्त सत्र को बाधित करने का प्रयास किया जिसमें नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन और नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की जीत की पुष्टि होनी थी.

ट्रंप ने चुनाव परिणाम को स्वीकार करते हुए बाइडन को सत्ता के सुगम हस्तांतरण का संकल्प भी लिया. निवर्तमान राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘हमें अमेरिका के लिए काम करते रहना चाहिए. मेरे अभियान दल ने चुनाव परिणामों के खिलाफ हर कानूनी कदम उठाया. मेरा एकमात्र लक्ष्य था चुनाव की सत्यनिष्ठा और निष्पक्षता को बरकरार रखना और ऐसा करते हुए मैं अमेरिका के लोकतंत्र को बचाने के लिए लड़ रहा था.’’ ट्रंप ने कहा कि उनका यह मानना है कि अमेरिका को चुनाव संबंधी कानूनों में सुधार करना चाहिए ताकि सभी मतदाताओं की पहचान और योग्यता का सत्यापन हो सके और भावी चुनावों में भरोसा और निष्ठा बनी रह सके.

ट्रंप ने कहा कि 2020 अमेरिकियों के लिए चुनौतीपूर्ण रहा है और अब वक्त उबरने का और मेल-मिलाप का है. उन्होंने कहा, ‘‘महामारी ने हमारे लोगों की जिंदगियों को बरबाद कर दिया, लाखों लोगों को इसकी वजह से अपने घरों में बंद होना पड़ा, हमारी अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा तथा अनगिनत लोगों की जान चली गई.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस महामारी को हराने और दुनिया की सबसे महान अर्थव्यवस्था के पुनर्निर्माण के लिए हम सभी को मिलकर काम करना होगा. देशभक्ति, विश्वास, परोपकार, समुदाय और परिवार जैसे मूल्यों पर नए सिरे से जोर देने की जरूरत है.’’ इससे पहले व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कायली मैकनेनी ने संवाददाताओं से कहा था कि कैपिटल हिल में हुई हिंसा भयावह और निंदनीय तथा अमेरिकी मूल्यों की विरोधाभासी थी. उन्होंने कहा, ‘‘हम, राष्ट्रपति तथा उनका प्रशासन इसकी कड़ी निंदा करता है. यह अस्वीकार्य है तथा कानून तोड़ने वालों पर कानून के तहत मामला चलाया जाना चाहिए.’’

मैकनेनी ने कहा, ‘‘कैपिटल को हिंसक तरीके से घेरने वाले लोग हर उस चीज के विरोधी हैं जिसका यह प्रशासन समर्थन करता है. हमारा प्रशासन मानता है कि सभी नागरिकों को सुरक्षित, शांति और आजादी से जीने का अधिकार है.’’ ट्रंप ने कहा, ‘‘आपके राष्ट्रपति के तौर पर सेवाएं देना मेरे जीवन का सबसे बड़ा सम्मान है.’’