होली को लेकर देश भर में अलग-अलग परंपरा है. मथुरा की 'लठमार मार' होली पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है. उसी तरह शाहजहां पुर में भी हर साल की तरह इस बार भी 'जूता मार होली' मनाया गया. शाहजहांपुर में इस तरह होली खेलने की परंपरा है.

शाहजहांपुर में 29 मई को होली के दौरान ऐतिहासिक 'जूता मार होली' का आयोजन किया गया. इस मौके पर 'लाट साहब' का जुलूस निकाला गया. वहीं, जुलूस के दौरान प्रशासन मुस्तैद थी.

यह भी पढ़ेंः अखलेश यादव बोले- अगले साल नई सरकार के साथ होली मनाएगा उत्तर प्रदेश

ये भी पढ़ें: शरद पवार की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल ले जाए गए, 31 मार्च को होगी सर्जरी

क्या है परंपरा

होली में यहां जूता मार होली खेलने की परंपरा है. जुलूस में एक शख्स को लाट साहब बनाकर भैंसा गाड़ी पर बैठाया जाता है और फिर उसे जूते से मार कर पूरे शहर में घुमाया जाता है. ये परंपरा अंग्रेजों के समय से चली आ रही है. ये परंपरा अंग्रेजों के खिलाफ गुस्से का इजहार करने के लिए लाट साहब को जूता मारने की परंपरा शुरू की गई थी.

ये भी पढ़ें: गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों ने नाच-गाने के साथ मनाया होली का पर्व

हालांकि, अब यह काफी संवेदनशील हो गया है. इसलिए इस होली के आयोजन के दौरान शहर में प्रशासन पूरी तरह से मुश्तैद रहती है.