कानपुर एनकाउंटर मामले का सबसे बड़ा आरोपी विकास दुबे गिरफ्तार कर लिया गया है. कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के फरार विकास दुबे आखिरकार 7वें दिन गिरफ्तार कर लिया गया है. बताया जा रहा है कि विकास दुबे को मध्य प्रदेश के उज्जैन में गिरफ्तार किया गया है.

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री ने की पुष्टि

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया -हमारी पुलिस छोड़ती नहीं है. विकास को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वह उज्जैन पुलिस की कस्टडी में है.

पुजारी एवं कुछ लोगों ने उसका चेहरा पहचाना और उसके बाद पुलिस को सूचना दी या पुलिस ने सीधे उसे गिरफ्तार किया के सवाल पर मिश्रा ने कहा, 'इंटेलीजेंस की बात भी बताएंगे. पहले हमें इसके मर्म तक आने दो. बाकी चीजें बाद में बताएंगे, पहले पता करने दो.' उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से वह प्रारंभ से ही क्रूरता की हदें पार करता रहा है और उसने जो कृत्य किया वह बहुत निंदनीय था, बहुत चिंतनीय था. मध्य प्रदेश पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है.

बताया जा रहा है कि विकास दुबे को उज्जैन के महाकाल मंदिर पहुंचा था. जहां पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है. वह महाकाल का दर्शन कर बाहर निकला ही था कि उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

दुबे के दो करीबी एनकाउंटर में मारे गए

वहीं, यूपी पुलिस ने विकास दुबे के दो करीबी प्रभात मिश्रा और बउआ दुबे को मार गिराया है. पुलिस ने जिन तीन लोगों को बुधवार को गिरफ्तार किया था उनमें से प्रभात मिश्रा एक था. वह पुलिस कस्टडी से भागने की कोशिश कर रहा था. वहीं, बउआ दुबे को पुलिस ने इटावा में ढेर कर दिया.

फरीदाबाद में रहने का मिला था सुराग, पुलिस ने कर दिया था 5 लाख इनाम

बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस को दिल्ली के निकट फरीदबाद में विकास दुबे की मौजूदगी का सुराग मिला था. विकास दुबे 5 जुलाई को ही फरीदाबाद पहुंच गया था. वह पहले न्यू इंदिरा नगर कॉम्प्लेक्स में अपने रिश्तेदार अंकुर के पास ठहरा. बाद में वह किसी होटल में रहने चला गया. लेकिन जब पुलिस छापेमारी करने पहुंची तो विकास दुबे वहां से फरार हो चुका था. वहीं, पुलिस ने विकास दुबे पर लगातार इनाम बढ़ाते हुए 50 हजार से 2.5 लाख और फिर 5 लाख कर दिया गया.